क्यूरेटिव याचिका खारिज, निर्भया की मां बोली- 22 जनवरी सबसे बड़ा दिन

नई दिल्ली. निर्भया रेप कांड के दोषियों को देश की सर्वोच्च अदालत से बड़ा झटका लगा है. फांसी की सजा के फैसले के बाद विनय शर्मा और मुकेश ने क्यूरेटिव याचिका दाखिल की थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है. निर्भया की मां आशा देवी ने इस पर संतुष्टि जाहिर की है. आशा देवी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कहा कि वह अपनी बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए पिछले सात साल से लड़ाई लड़ रही हैं. अदालत का फैसला उनके लिए बड़ा दिन है, लेकिन सबसे बड़ा दिन 22 जनवरी ही होगा जब दोषियों को फांसी दी जाएगी.

  छत्रपति शिवाजी महाराज की साढ़े 13 फीट लंबी तलवार का अनावरण हुआ

बता दें कि बीते दिनों पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया रेप कांड के चारों दोषियों का डेथ वारंट जारी किया था. इस वारंट के हिसाब से 22 जनवरी की सुबह 7 बजे चारों को फांसी दी जाएगी. अभी चारों दोषी दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं. निर्भया के चार दोषियों मुकेश, विनय, पवन और अक्षय में से सिर्फ मुकेश-विनय ने ही अभी सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव याचिका दायर की थी. इस याचिका में अपील की गई थी कि फांसी की सजा से सिर्फ दोषियों ही नहीं बल्कि परिवार पर भी दबाव पड़ रहा है.

  आरती के साथ हुई थी दुष्कृत्य की कोशिश, अभिनेत्री के खुलासे से नाराज थे मां-भाई

याचिकाकर्ता के माता-पिता वृद्ध और अत्यंत गरीब हैं. इस मामले में उनका भारी संसाधन बर्बाद हुआ और अब उन्हें कुछ भी हाथ नहीं लगा है. निर्भया के इन दो दोषियों के लिए अब अदालती रास्ता पूरी तरह से खत्म हो गया है. यानी दोषी अब दोबारा सुप्रीम कोर्ट में याचिका नहीं डाल सकते हैं, हालांकि राष्ट्रपति के सामने एक बार दया याचिका दायर की जा सकती है. याचिकाओं के दौर से परे दोषियों को फांसी देने की तैयारी पूरी है और तिहाड़ में डमी के साथ रिहर्सल भी की जा चुकी है.

  कश्मीर को लेकर मोदी सरकार पर उठाए थे सवाल, ब्रिटिश सांसद को बैरंग लौटाया

Check Also

सीएए- मुस्लिम संगठनों द्वारा तमिलनाडु विधानसभा की घेराबंदी करने पर मद्रास हाईकोर्ट ने लगाई रोक

चेन्नई. संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शनों के बीच तमिलनाडु में …