Saturday , 23 October 2021

एनआईआरडी ने 75 दिव्यांगजनों को हुनरबाज पुरस्कार से सम्मानित किया

नई दिल्ली (New Delhi) . आजादी का अमृत महोत्सव के एक भाग के रूप में और 25 सितंबर को पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर अंत्योदय दिवस के अवसर पर ग्रामीण विकास मंत्रालय के तत्वावधान में राष्ट्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान (एनआईआरडी एवं पीआर) हैदराबाद ने 15 राज्यों के 75 दिव्यांगजनों को हुनरबाज पुरस्कार प्रदान किए. इस वर्चुअल पुरस्कार समारोह का आयोजन एनआईआरडीपीआर द्वारा ग्रामीण विकास मंत्रालय के साथ मिलकर राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (एसआरएलएम) और ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थानों के सहयोग से किया गया था. एसआरएलएम के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों और आरएसईटीआई के निदेशकों ने संबंधित राज्यों में विशेष रूप से उपलब्धि हासिल करने वाले दिव्यांग विजेताओं को यह पुरस्कार प्रदान किए. आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में ग्रामीण विकास मंत्रालय के तत्वावधान में राष्ट्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान (एनआईआरडी एंड पीआर) हैदराबाद द्वारा 75 दिव्यांग उम्मीदवारों के लिए डीडीयू-जीकेवाई और आरएसईटीआई का हुनरबाज पुरस्कार तय किए गए हैं. इन पुरस्कार उन उम्मीदवारों को प्रदान किया जाता हैं, जिन्हें दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना (डीडीयू-जीकेवाई) और मंत्रालय की ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थानों (आरएसईटीआई) की योजनाओं के माध्यम से विभिन्न ट्रेडों में प्रशिक्षित किया गया था, बाद में उन्हें एक वर्ष से अधिक समय तक विभिन्न संगठनों रखते हुए कार्य दिया गया या फिर वह स्वरोजगार के रूप में अपनी पसंद के व्यापार में सफलतापूर्वक कार्य में जुटे थे. पुरस्कार समारोह में वर्चुअल माध्यम से भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव नागेंद्र नाथ सिन्हा; एनआईआरडीपीआर के महानिदेशक डॉ जी नरेंद्र कुमार; ग्रामीण विकास मंत्रालय में अपर सचिव श्रीमती अलका उपाध्याय और ग्रामीण विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव (कौशल) अमित कटारिया ने राज्य ग्रामीण आजीविका मिशनों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों एवं आरएसईटीआई के निदेशकों के साथ हिस्सा लिया.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *