Sunday , 28 February 2021

चीन में कोई भी मीडिया समूह स्वतंत्र नहीं, एक रिपोर्ट में हुआ खुलासा

बीजिंग . चीन में मीडिया (Media) की स्वतंत्रता को लेकर चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है. रिपोर्ट के अनुसार कोई भी मीडिया (Media) समूह चीन में स्वतंत्र नहीं है. सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ने मीडिया (Media) समूहों पर शिकंजा कसा हुआ है, इसकारण उनके पास पार्टी के हितों के अनुरूप चलने के अलावा कोई विकल्प नहीं है.

रिपोर्ट में बीबीसी पर प्रतिबंध के कदम पर चीन में निक्केई के ब्यूरो चीफ तेत्सुशी ताकाहाशी ने कहा कि 2012 में शी चिनफिंग के सत्ता संभालने के बाद से मीडिया (Media) पर नियंत्रण बढ़ा है. अखबारों, चैनलों और रेडियो स्टेशनों के पास कोई विकल्प नहीं है. बता दें कि चीन के नेशनल रेडियो एंड टेलीविजन एडमिनिस्ट्रेशन ने बीबीसी व‌र्ल्ड न्यूज की ब्रॉडकास्टिंग को प्रतिबंधित कर दिया है. यूनाइटेड स्टेट्स एंड यूरोपियन यूनियन (ईयू) ने बीबीसी पर प्रतिबंध लगाने की चीनी कार्रवाई की निंदा की है. ईयू ने कहा कि चीन को बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ पर अपने प्रतिबंध को बदल देना चाहिए क्योंकि इससे चीनी संविधान और मानव अधिकारों का उल्लंघन हुआ है.

  डिजिटल मुद्रा के प्रचलन से भुगतान प्रणाली में आ सकता है बड़ा बदलाव: रिपोर्ट

हालांकि उसका कहना है कि बीबीसी ने शिनजियांग में मानवाधिकारों के उल्लंघन की झूठी रिपोर्ट चलाई है. कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र ने कोरोना से निपटने के मामले में चीन के कदमों को लेकर बीबीसी पर गलत रिपोर्टिग का आरोप लगाया है. एक हफ्ता पहले ही ब्रिटिश मीडिया (Media) रेगुलेटर ऑफकॉम ने चीन के सरकारी अंग्रेजी चैनल सीजीटीएन (चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क) का लाइसेंस रद कर दिया था जिसके बाद चीन ने जवाबी कदम उठाने की धमकी दी थी. चीन ने कोरोना और अल्पसंख्यक उइगरों के उत्पीड़न को लेकर बीबीसी द्वारा की गई रिपोर्टिग की आलोचना की और ब्रिटिश प्रसारणकर्ता के साथ अपना विरोध दर्ज कराया.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *