टेलीकॉम फ्रॉड से निपटने बनेगी नोडल एजेंसी

नई दिल्ली (New Delhi) . सरकार टेलीकॉम से जुड़ी धोखाधड़ी मामलों की जांच के लिए लॉ एजेंसियों, वित्तीय संस्थानों और टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर के साथ काम करने के लिए डिजिटल इंटेलिजेंस यूनिट नाम की एक नोडल एजेंसी स्थापित करने की योजना बना रही है. इसका उद्देश्य भारत में डिजिटल धोखाधड़ी से निपटने में मदद करना है.

  एमजी मोटर ने फरवरी में बेची 4,329 कारें -भारत में 215फीसदी ज्यादा हुई बिक्री

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोमवार (Monday) को एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की, जिसमें परेशान करने वाले मैसेज और कॉल, बार-बार तंग करने वाले एसएमएस और फ्रॉड लोन के बढ़ते मामलों पर चर्चा हुई. डिजिटल इंटेलिजेंस यूनिट के अलावा, संचार मंत्रालय ने एक कहा कि स्पेसिफिक टेलीकॉम एनालिटिक्स फोर फ्रॉड मैनेजमेंट और कंज्यूमर प्रोटेक्शन सिस्टम के लिए एक लाइसेंस सर्विस एरिया लेवल पर बनाया जाएगा ताकि देश में डिजिटल धोखाधड़ी के मामलों का पता लगाया जा सके. मंत्रालय ने कहा कि यह सिस्टम, डिजिटल इकोसिस्टम में लोगों के विश्वास को मजबूत करेगा और मुख्य रूप से मोबाइल के माध्यम से सुरक्षित और विश्वसनीय वित्तीय डिजिटल लेनदेन करेगा.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *