अब हर एक मजदूर का डेटा रखेगी सरकार, साल के अंत तक आ सकता है बिल


नई दिल्ली (New Delhi). देश में लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से जारी मजदूरों के संकट के मद्देनजर केंद्र सरकार (Government) 41 साल बाद प्रवासी मजदूरों की परिभाषा बदलने वाली है. इसके अलावा सरकार (Government) की योजना कर्मचारी राज्य बीमा निगम के तहत सामाजिक सुरक्षा और स्वास्थ्य लाभ तक पहुंच को सक्षम करने के लिए उन्हें पंजीकृत करने की है. लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान अनौपचारिक और औपचारिक अर्थव्यवस्था में लाखों श्रमिकों के बड़े पैमाने पर प्रवास के बाद सामाजिक सुरक्षा पर एक नया कानून प्रस्तावित हैं, जिसे श्रम मंत्रालय जल्द ही केंद्रीय मंत्रिमंडल में लेकर जाएगा.

  कोरोना महामारी के बीच नागल ने जीता अंतरराष्ट्रीय टेनिस टूर्नामेंट

कैबिनेट इस साल के अंत तक इस कानून को बनाने की योजना बना रहा है. सरकार (Government) के नए कदमों को महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि वर्तमान कानूनी ढांचा अपर्याप्त है. प्रवासियों के पलायन से सामने आया कि उनके रोजगार का रिकॉर्ड तक नहीं है. इसने सरकार (Government) को कानून में बदलाव करने को लेकर प्रेरित किया. अंतर-राज्य प्रवासी श्रमिक अधिनियम, 1979 पांच या अधिक अंतर-राज्य प्रवासी श्रमिकों के साथ प्रतिष्ठानों पर और उनकी भर्ती में शामिल ठेकेदारों के लिए लागू होता है.

  कर्ज भुगतान पर रोक में सुप्रीम कोर्ट का आरबीआई से सवाल पूछना दुर्भाग्यपूर्ण : पारेख

साल में मुफ्त यात्रा की सुविधा मिलेगी

एक अधिकारी ने कहा, ‘इसका मतलब यह होगा कि अधिकांश प्रवासी श्रमिक आज कानून के दायरे से बाहर होंगे. प्रस्तावित कानूनी ढांचा व्यक्तिगत प्रवासी श्रमिकों पर लागू होगा जो घरेलू ढांचे के अंतर्गत एक तय राशि तक कमाते हैं. वहीं उच्चतम मजदूरी को एक कार्यकारी आदेश के माध्यम से परिभाषित किया जाएगा.

  6 पाकिस्तानी क्रिकेटर्स जल्द पहुंचेंगे इंग्लैंड

सूत्रों ने कहा कि इन श्रमिकों को देश भर में पोर्टेबिलिटी के लाभों का आनंद मिलेगा और हर साल एक बार घर जाने का किराया दिया जाएगा.

Check Also

बीएसएनएल ने दिया चीनी कंपनी को बड़ा झटका

नई दिल्‍ली . सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने 4जी दूरसंचार नेटवर्क उन्नत बनाने …