भारत के साथ व्यापार शुरू हुआ तो पाकिस्तान को मिल सकती है सस्ती चीनी

नई दिल्ली (New Delhi) . चीनी उद्योग के एक संगठन ने कहा कि पाकिस्तान यदि भारत के साथ व्यापार शुरू कर दे तो उसे सस्ती चीनी मिल सकती है और आगामी रमजान के महीने से पहले वहां कीमतों पर काबू पाया जा सकता है. भारत से आयात करने पर पाकिस्तान को जल्दी चीनी मिल सकती है, जो चीनी की भारी कमी से जूझ रहा है. पाकिस्तान में उत्पादन में कमी के चलते चीनी की खुदरा कीमत 100 पाकिस्तानी रुपए प्रति किलोग्राम तक बढ़ गई है.

  देश का निर्यात अप्रैल में 13.72 अरब डॉलर रहा: वाणिज्य मंत्रालय

पाकिस्तान आर्थिक समन्वय समिति (ईसीसी) ने सरकार से उपलब्धता बढ़ाने के लिए 5 लाख टन सफेद चीनी के आयात की अनुमति देने की सिफारिश की है. पिछले हफ्ते, दोनों देशों के बीच व्यापार फिर से खुलने की उम्मीद जगी थी. हालांकि, भारत से चीनी और कपास के आयात की अनुमति देने के पाकिस्तान ईसीसी के फैसले को पाकिस्तान के मंत्रिमंडल ने रोक दिया. पाकिस्तानी व्यापारियों के अनुसार पड़ोसी देश में 2020-21 के विपणन वर्ष (अक्टूबर-सितंबर) में 56 लाख टन चीनी उत्पादन की उम्मीद है, जबकि मांग के मुकाबले पांच लाख टन की कमी हो सकती है.

  दुष्यंत चौटाला ने किसानों संग वार्ता फिर शुरू करने को PM MODI से किया आग्रह

अखिल भारतीय चीनी व्यापारी संघ (एआईएसटीए) के एक अ‎धिकारी ने कहा ‎कि भारत, पाकिस्तान की चीनी की कमी को आसानी से पूरा कर सकता है. उन्होंने कहा ‎कि यदि व्यापार फिर से शुरू हुआ तो इसमें दोनों देशों का फायदा है. मैं कहना चाहता हूं कि मानव उपभोग की आवश्यक वस्तुओं को राजनीति से दूर रखना चाहिए. पाकिस्तान में पंजाब (Punjab) के रास्ते सड़क मार्ग से सफेद चीनी 398 डॉलर (Dollar) प्रति टर की दर से (भाड़ा सहित) पहुंचाई जा सकती है और यह दर समुद्र मार्ग से दूसरे देशों से आने वाली चीनी के मुकाबले 25 डॉलर (Dollar) प्रति टन सस्ती है. उन्होंने कहा कि ब्राजील से पाकिस्तान तक चीनी पहुंचाने में 45-60 दिनों का समय लगता है, जबकि भारत से चार दिनों में वहां चीनी पहुंचाई जा सकती है.

  भारत में पहली बार एक दिन में दो लाख से अधिक मामले

 

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *