भारत में घरेलू क्रिकेट खेलने वालों से भी कम मिलते हैं पाकिस्तानी क्रिकेटरों को पैसे

नई दिल्ली (New Delhi) . क्रिकेट के रोमांच टी-20 विश्वकप को एक हप्ता भी नहीं बचा है. भारत और पाकिस्तान के बीच 24 अक्टूबर को मुकाबला होना है. करीब 28 महीने के बाद दोनों टीमें आमने-सामने होगी. आखिरी बार दोनों टीमों की टक्कर 2019 के वर्ल्ड कप में हुई थी. ये वो मुकाबला है जिस पर पूरी दुनिया की निगाहें टिकी रहेंगी. आईसीसी को भी इस मैच से छप्पर फाड़ कर कमाई होती है. मैदान पर स्पॉन्सर से लेकर टीवी के विज्ञापन की कीमत, सौ गुना (guna) से ज्यादा बढ़ जाती है. लिहाज़ा इस बड़े मंच पर खिलाड़ियों पर भी अच्छे प्रदर्शन का दबाव रहता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक मैच खेलने के लिए भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ियों को कितने पैसे मिलते हैं. ये वो आंकड़े हैं जिसे जान कर आपको पाकिस्तानी खिलाड़ियों पर तरस आ जाएगा. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड इस वक्त सबसे बुरे दौर से गुज़र रहा है. करीब 12 साल बाद बड़े अंतरराष्ट्रीय आयोजन की उम्मीदें जगी थी. लेकिन आतंकी हमले के डर से न्यूज़ीलैंड ने पाकिस्तान की उम्मीदों पर पानी फेर दिया. लिहाजा आर्थिक मोर्चे पर खिलाड़ियों का हाल खस्ता है. हालत ये है कि पाकिस्तानी क्रिकेटरों को अपने क्रिकेट बोर्ड से पैसे बढ़ाने के लिए बार-बार मांग कर रहे हैं.

लंबी प्रतीक्षा के बाद इस साल जुलाई में पाकिस्तानी खिलाड़ियों की सैलरी थोड़ी बहुत बढ़ाई गई. लेकिन वो अब भी श्रीलंका और बांग्लादेश के आस-पास ही है. भारत की तरह पाकिस्तान में भी खिलाड़ियों को सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट दिया जाता है. यहां ए ग्रेड में आने वाले खिलाड़ियों को हर साल एक करोड़ 20 लाख रुपए दिए जाते हैं. यानी भारतीय करेंसी में उन्हें करीब 52 लाख रुपए मिलते हैं. जबकि भारत में ए ग्रेड खिलाड़ियों को हर साल 7 करोड़ रुपए दिए जाते हैं. पाकिस्तान में अलग-अलग ग्रेड के हिसाब से खिलाड़ियों को मैच फीस दी जाती है. टेस्ट मैच के लिए 3.5 लाख रुपए. वनडे में 2.2 लाख रुपए और टी-20 खेलने के सिर्फ 1 लाख 60 हज़ार रुपए मिलते हैं. अगर कोई ‘सी’ ग्रेड में है तो उसे और भी कम पैसे मिलेंगे. अगर हिसाब लगाया जाए तो भारत में घरेलू क्रिकेट खेलने वालों को भी इससे ज्यादा पैसे मिलते हैं. अब ज़रा भारतीय खिलाड़ियों की मैच फीस के बारे में भी जान लेते हैं. यहां भी अलग-अलग ग्रेड के हिसाब से खिलाड़ियों की कैटेगरी है. यहां ए ग्रेड वालों को हर साल 7 करोड़ रुपए दिए जाते हैं. बी ग्रेड वालों को 5 करोड़ और सी कैटेगरी में आने वालो को 3 करोड़ रुपए. पाकिस्तानी खिलाड़ी तो अभी लाखों में ही हैं.

टीम इंडिया के खिलाड़ियों को मैच फीस के तौर पर एक टेस्ट के लिए 15 लाख रुपए दिए जाते हैं. वनडे में 6 लाख और टी-20 में 3 लाख रुपए मिलते हैं. इसके अलावा टीम इंडिया के खिलाड़ियों को बोनस भी मिलते हैं. पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा के मुताबिक भारतीय खिलाड़ियों को मैच फीस के अलावा डबल सेंचुरी मारने पर 7 लाख रुपए मिलते हैं. शतक लगाने पर 5 लाख और 5 विकेट लेने वाले गेंदबाज़ को भी बोनस के तौर पर इतने ही पैसे मिलते हैं. यानी एक टेस्ट मैच खेलने वाले खिलाड़ी को कई बार 25 लाख रुपए भी मिल जाते हैं. जबकि पाकिस्तान के सी ग्रेड के खिलाड़ियों को एक साल में भी इतने पैसे नहीं मिलते हैं.
 

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *