PMC बैंक घोटाला: कोर्ट ने एचडीआईएल प्रवर्तकों के आवास स्थानांतरित करने पर लगाई रोक


नई दिल्ली . पीएमसी बैंक घोटाला मामले में सुप्रीम कोर्ट ने एचडीआईएल के प्रवर्तकों राकेश वधावन और सारंग वधावन को आर्थर रोड जेल से आवास में स्थानांतरित करने के बंबई हाईकोर्ट के फैसले पर गुरुवार को रोक लगा दी. बंबई हाईकोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए बुधवार को राकेश वधावन और सारंग वधावन को आर्थर रोड जेल से आवास में स्थानांतरित करने का आदेश दिया. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और आर्थिक अपराध शाखा ने उच्च न्यायालय के इस फैसले को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी है. राकेश वधावन और सारंग वधावन को सात हजार करोड़ रुपये के पंजाब एंड महाराष्ट्र कॉपरेटिव (पीएमसी) घोटाले के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है.

  चूरु में दो सांडों के बीच हुई जबर्दस्त भिड़ंत

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मुख्य न्यायधीश एसए बोबड़े की अगुवाई वाली पीठ के समक्ष इस मामले को रखा. पीठ में न्यायमूर्ति बीआर गवई और न्यायमूर्ति सूर्यकांत भी शामिल थे. मेहता ने पीठ को बताया कि राकेश वधावन और सारंग वधावन को आर्थर रोड जेल से आवास में स्थानांतरित करना दोनों को जमानत देने जैसा होगा.

  पुरी ने दिया भरोसा एयर इंडिया के किसी कर्मचारी की नहीं जाएगी नौकरी

उन्होंने इस फैसले पर रोक लगाने की उच्चतम न्यायालय से मांग की. मेहता ने कहा कि उनकी आपत्ति सिर्फ दोनों प्रवर्तकों को आवास में स्थानांतरित करने को लेकर है. उन्होंने कहा कि बंबई उच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त समिति की निगरानी में प्रवर्तकों की संपत्तियों की बिक्री से संबंधित आवास को लेकर उन्हें कोई आपत्ति नहीं है. उच्चतम न्यायालय ने मेहता की दलीलों को स्वीकार किया और स्थानांतरण पर रोक लगा दी.

  Jsw steel को भूषण पावर के अधिग्रहण के लिए एनक्लैट की हरी झंडी

Check Also

‘खुल जा सिम सिम’ की तर्ज पर हुई सीवीसी और सीआईसी की नियुक्ति: कांग्रेस

नई दिल्ली. कांग्रेस ने संजय कोठारी को मुख्य सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) और बिमल जुल्का को …