प्रशांत किशोर की बिहार में नई सियासी बिसात की तैयारी, 5 लाख सदस्य हर बनाने की तैयारी


नई दिल्ली. राजनीति के मैनेजर के रूप में ख्यात हो चुके जेडीयू और नीतीश कुमार से मुक्त हो चुके प्रशांत किशोर अपनी अलग सियासी बिसात बिछाने के लिए तैयार है. प्रशांत किशोर मंगलवार को खुलासा करेंगे. प्रशांत किशोर पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके विस्तार से अपनी राजनीतिक दशा और दिशा पर बात करेंगे. बिहार में इसी साल आखिर में विधानसभा चुनाव हैं. ऐसे में पीके की राज्य में भूमिका काफी अहम मानी जा रही है, जिसके लिए उन्होंने बाकायदा खासा प्लान बना रखा है, जिसके तहत ही वह सियासी रण में उतरेंगे.

हालांकि एक बात साफ है कि बिहार में प्रशांत एक मैनेजर के तौर पर किसी के सारथी नहीं बनेंगे बल्कि एक राजनीतिक योद्धा के तौर पर खुद मैदान में उतरकर नीतीश कुमार से दो-दो हाथ करेंगे. पीके ने 2015 में नीतीश कुमार के लिए नारा गढ़ा था-बिहार में बहार है नीतीशे कुमार है, अब प्रशांत उन्हीं नीतीश कुमार को चुनौती देने जा रहे हैं.

  12 वर्षीय बालक ने गुल्लक तोडक़र मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा कराए 2 हजार

जेडीयू के पूर्व सांसद और पार्टी से निष्कासित पवन वर्मा भी प्रशांत किशोर के साथ उनकी नई राजनीतिक मुहिम में शामिल हो सकते हैं. माना जा रहा है कि पवन वर्मा भी मंगलवार को पीके साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद रहेंगे. ज्ञात हो कि नीतीश कुमार ने पार्टी विरोधी बयानों के लिए प्रशांत किशोर के साथ-साथ पूर्व सांसद पवन वर्मा को भी पार्टी से निकाल दिया था. इन दोनों नेताओं ने सीएए-एनआरसी-एनपीआर के खिलाफ स्टैंड लिया था और नीतीश कुमार से अपनी विचाराधारा को स्पष्ट करने की बात कही थी.

  मरकज ने लॉकडाउन के नियमों की अवहेलना की हो तो उसकी निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए – जमीयत उलेमा-ए-हिंद

प्रशांत किशोर ने कहा कि मेरा जन्म बिहार में हुआ है ऐसे में मेरा यहां से गहरा नाता है. हमने देश भर में भले ही राजनीतिक मैनेजर के तौर पर काम किया हो, लेकिन बिहार में मैंने एक पॉलिटिक्ल एक्टिविस्ट के तौर पर अपना सियासी सफर शुरू किया था. ऐसे में एक बात साफ तौर पर समझ लीजिए कि बिहार में मेरी भूमिका एक मैनेजर की नहीं होगी बल्कि एक राजनीतिक कार्यकर्ता के तौर पर ही होगी.

सूत्रों की मानें तो पिछले कई महीनों से प्रशांत किशोर की टीम बिहार में एक नए राजनीतिक विकल्प बनाने की संभावनाओं पर काम कर रही है. बिहार के हर जिले में उनकी कंपनी आईपैक के कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में लोगों से बात की जिनमें हर उम्र, वर्ग और जाति के लोग शामिल हैं, जिनके जरिए प्रशांत किशोर राज्य में सियासी प्लान बना रहे हैं.

  कम्प्यूटर दुकान पर बनाए जा रहे थे नकली अनुमति पत्र, होशंगाबाद जिले के माखन नगर का मामला

प्रशांत किशोर की टीम ने अपनी मुहिम में सबसे ज्यादा जोर हर जाति और धर्म के युवाओं पर दिया गया और करीब पांच लाख युवाओं से बातचीत का एक विस्तृत लेखा-जोखा तैयार किया है. बताया गया है कि एक लाख युवाओं ने अपने प्रोफाइल भेजकर बिहार में सामाजिक आर्थिक और राजनीतिक बदलाव के लिए प्रशांत किशोर की सियासी मुहिम से जुड़ने की इच्छा जाहिर की है.

Check Also

तबीलीगी जमात में शामिल 218 विदेशियों को यूपी पुलिस ने किया चिन्हित

लखनऊ (Lucknow) . यूपी पुलिस (Police) की कार्रवाई में 218 विदेशी ‘कोरोना कैरियर’ भी चिह्नित …