Tuesday , 24 November 2020

राजस्थानी वेशभूषाओं की गाबा में दिखी झलक, कैटवॉक में राजस्थानी परिधानों की गाथा

 

उदयपुर (Udaipur). आडावळ में राजस्थानी पोशाकों की गाबा कार्यशाला के रैंप पर एक के बाद एक राजस्थानी पौशाक धारण किए युवक-युवतियां ही नहीं बालक-बालिकाओं की कैट वॉक का जलवा देखते ही बना. मधुर मुस्कान लिए प्रतिभागियों की एक के बाद एक उपस्थिति ने राजस्थानी संस्कृति को जीवंत कर दिया.

मौका था शुक्रवार (Friday) को राजस्थान (Rajasthan)साहित्य महोत्सव आडावळ के तहत राजस्थानी पौशाकों पर आधारित गाबा फैशन-शो का. कोविड को लेकर सरकार के नियमों की पालना करते हुए निर्धारित कार्यक्रम से पूर्व दिवस पर आयोजित गाबा फैशन-शो में प्रतिभागियों का आत्मविश्वास देखते ही बना. एकाएक जिला प्रशासन की 144 धारा की सूचना के बाद युवक-युवतियों के साथ बालक-बालिकों ने अपने हौंसले को जिंदा रखते हुए शुक्रवार (Friday) को अशोका ग्रीन में कैट वॉककर राजस्थानी पौशाकों को धारण राजस्थानी संस्कृति से रू-ब-रू कराया.

अल्प अवधि में बीते 20 दिनों की मेहनत उस समय रंग लाई जब आयोजक और प्रतिभागियों ने स्वयं के द्वारा तैयार विविध क्षेत्र की राजस्थानी परिधानों को धारण कर रैंप पर अपनी प्रस्तुति से माहौल को राजस्थानीमय बना दिया. सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अमेरिका सिंह, मिस इंडिया रितु खोसला की प्रेरणा से प्रतिभागियों ने बारी-बारी से पंरपरागत राजस्थानी परिधानों से परिचय कराया. रैंप पर आने वाले प्रतिभागियों ने जयपुर-उदयपुर (Udaipur)-बाड़मेर, जोधपुर (Jodhpur) -जैसलमेर, गंगानगर आदि क्षेत्रों में पहने जाने वाले राजस्थानी पारंपरिक पौशाकों को धारण कर अपना ध्यान आकृष्ट किया.गाबा फैशन- शो में पहने जाने वाले परिधानों में ज्यादातर परिधान सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय के रेडिमेड गारमेंट के छात्र-छात्राओं द्वारा डिजाइन किए गए परंपरागत राजस्थानी परिधान थे. राजस्थानी परिधानों को गाबा कार्यक्रम के तहत विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने न केवल तैयार किया बल्कि राजस्थानी संगीत पर कैट वॉक कर प्रदर्शित किया जिसको मिस इंडिया रितु खोसला से भी सराहा.

  सुशीला चानू आश्वस्त- टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम अवश्य जीतेगी पदक

इस मौके पर आडावळ निदेशक डॉ. शिवदान सिंह जोलावास ने बताया कि कोविड केस में बढ़ोतरी के बाद जिला प्रशासन के निर्णय पर गाबा फैशन शो का निर्धारित कार्यक्रम से पूर्व करना पड़ा और प्रतिभागियों ने कम समय में अपने उत्कृष्ट प्रदर्शन से कार्यकम को यादगार बना दिया. गाबा कार्यक्रम की संयोजिका डॉ. डोली मोगरा ने बताया कि राजस्थान (Rajasthan)के परंपरागत परिधानों को छात्र-छात्राओं ने जिस बखुबी से प्रदर्शित किया उससे तरह-तरह की पौशाकों से रूबरू होने का मौका मिला. भविष्य में गाबा परिधानों की गाथा को विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं के साथ आयोजित किया जाएगा. इसके पीछे विद्यार्थियों को स्वरोजगार से जुडऩे वाली शिक्षा से प्रेरित करना ही नहीं बल्कि संस्कृति से जोड़े रखना भी एक अहम उद्देश्य है. कार्यक्रम में लायंस क्लब के प्रांतपाल संजय भंडारी, लायंस एलीट उदयपुर (Udaipur) (Udaipur)के अध्यक्ष नीतिन शुक्ला, अशोक चौधरी सहित गणमान्य मौजूद थे. कार्यक्रम का संचालन राजेंद्र सेन एवं सौम्या कावडिय़ा ने किया.

  जी-20: सऊदी अरब ने नोट पर छपे भारत का गलत नक्शा वापस लिया

निर्धारित सत्रों में शनिवार (Saturday) को ‘चौपाल’ सत्र में आदिवासी लोक जंगलात, जड़ी बूटी, गुणीजन और जनजाति रोजगार विषय पर भारतीय वन अधिकारी राम कुमार सिंह ने सरकार के आयुष मंत्रालय के साथ एवं अन्य योजनाओं की जानकारी प्रदान करी. डॉ. सतीश शर्मा ने राजस्थान (Rajasthan)के जंगलों में उपलब्ध सम्रद्ध औषधियों की जानकारी प्रदान करी. अगले सत्र ‘हेमाणी’ में राजस्थानी चित्रकला और वास्तुशिल्प पर भारतीय प्रशासनिक अधिकारी मति किरण सोनी गुप्ता ने चित्रकला के विभिन्न पक्षो को समझाया, राजस्थान (Rajasthan)के पूर्व प्रशासनिक अधिकारी दिनेश कोठारी ने मिनिएचर आर्ट, पिछवाई कला की बारीकियों को समझाया, सत्र में राजाराम शर्मा, ओमप्रकाश सोनी, मोलेला कला के जमना लाल, फड़ के प्रसिद्ध चित्रकार विजय जोशी ने कला की विस्तृत जानकारी प्रदान करी. सत्र का संचालन मति किरण राजपुरोहित ने किया. सत्र ‘थाती’ घूमर में सम्पूर्ण राजस्थान (Rajasthan)के अलग – अलग जिलों जैसलमेर, बाड़मेर, पाली आदि से कलाकारों के समूहों ने घूमर, गवरी, चकरी, तेरा ताली, कालबेलिया, लंगा में शेरू खान एन्ड पार्टी आदि लोककला कलाकरों ने सांस्कृतिक रंगों की प्रस्तुति करी, सत्र में कवि ब्रजराज सिंह जगावत के ओजस्वी काव्यपाठ, मति जय नागदा के गवरी तथा राजस्थानी भाषा मे मंच संचालन पर चर्चा हुई, सत्र का संचालन छैलू चारण छैल बाड़मेर ने करी कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मो सु वि वि के कुलपति प्रोफेसर अमेरिका सिंह उपस्थित रहे.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *