खुदरा महंगाई दर बढ़कर 7.59% पर पहुंची, औद्योगिक उत्पादन में गिरावट


नई दिल्ली.मंगलवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दावा किया था कि अर्थव्यवस्था सुधार की राह पर है और उन्होंने इसके लिए सात संकेतकों का हवाला दिया था. किन्तु खाने-पीने का सामान महंगा होने से जनवरी में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 7.59% पर पहुंच गई, जो 6 सालों का उच्च स्तर है. इससे पूर्व दिसंबर में उद्योगों की रफ्तार में भी कमी दर्ज की गई है.

यह लगातार छठा महीना है, जब महंगाई दर में बढ़ोतरी देखी गई है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) आधारित खुदरा मुद्रास्फीति दिसंबर 2019 में 7.35% रही थी. वहीं, पिछले साल जनवरी महीने में यह 1.97% रही थी. जनवरी में महंगाई दर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के 4% के लक्ष्य से काफी ऊपर रही है. जनवरी में सब्जियों की महंगाई दर बढ़कर 50.19% रही, जबकि दिसंबर 2019 में यह आंकड़ा 60.50% रहा था. इसी तरह, तिलहन की महंगाई दर 5.25% रही. दालों तथा इससे जुड़े उत्पादों की महंगाई दर 16.71% रही.

  निजामुद्दीन मरकज मामले में FIR दर्ज – मामले की जांच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच करेगी

वहीं, दिसंबर में उद्योगों की रफ्तार में भी कमी दर्ज की गई है. दिसंबर में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर में 0.3% की गिरावट देखी गई है. पिछले साल की समान अवधि में इसमें 2.5% की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी. मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का उत्पादन घटने से यह गिरावट आई है. मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के उत्पादन में 1.2% की गिरावट दर्ज की गई है, जबकि पिछले साल की समान अवधि में इसमें 2.9% की वृद्धि देखी गई थी.

  कोरोना संक्रमण को देखते हुए दवाईयों की होम डिलीवरी शुरू

बिजली उत्पादन की वृद्धि दर घटकर 0.1% पर पहुंच गई है, जबकि दिसंबर 2018 में इसमें 4.5% की बढ़ोतरी देखी गई थी. खनन क्षेत्र के उत्पादन में 5.4% की बढ़ोतरी देखी गई, जबकि पहले इसमें 1% की गिरावट देखी गई थी. चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-दिसंबर की अवधि में आईआईपी ग्रोथ घटकर 0.5% रहा, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में इसमें 5.7% की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी.

  वेद व्यास, आल्हा ऊदल, भगवान राम का मंदिर है यहां…!

Check Also

सीएम योगी को तोड़नी पड़ी परम्‍परा, पहली बार रामनवमी पर गोरखनाथ मंदिर में नहीं

गोरखनाथ . एक बार फिर गोरक्षपीठाधीश्‍वर और सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने लोककल्‍याण के लिए परम्‍परा …