परिमाणु हथियार विकसित करेगा उत्तर को‎रिया: ‎किम जोंग

– सेना को मजबूत बनाने पर रहेगा जोर

प्योंगयांग . लंबे समय से पूरी दुनिया के लिए सिरदर्द बना उत्तर कोरिया आने वाले दिनों में और भी बड़ा खतरा उत्पन्न कर सकता है. उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने कह ‎दिया है ‎कि अंतरराष्ट्रीय दबाव और तमाम प्रतिबंधों के बावजूद उनका देश परमाणु हथियार विकसित करता रहेगा. सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी की बैठक के समापन पर किम ने कहा कि दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सेना को मजबूत करने पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया जाएगा. कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी के मुताबिक आठ दिनों तक चली कांग्रेस की बैठक मंगलवार (Tuesday) को समाप्त हुई1 इस मौके पर किम जोंग उन ने कहा ‎कि हमें अपनी सैन्य क्षमताओं को मजबूत करना होगा, हमें नए हथियार विकसित करने होंगे और परमाणु युद्ध निवारक दस्ते को प्रभावी बनाना होगा. तानाशाह ने देश की गिरती अर्थव्यवस्था को फिर से मजबूती देने की बात भी कही. किम ने कहा कि पिछले अनुभवों के आधार पर अगले पांच सालों का खाका तैयार किया गया है. जिसके सहारे हम अर्थव्यवस्था को पुन: मजबूती प्रदान कर पाएंगे. इसमें कृषि क्षेत्र की महत्वपूर्ण भूमिका होगी.

  USISPF ने वित्त मंत्री को दिया बजट में शुल्क दरें कम करने का प्रस्ताव

किम ने कहा कि सैन्य बलों को मजबूती प्रदान करने के लिए कई वॉरहेड वाली मिसाइल, पानी के नीचे पेश की जाने वाली परमाणु मिसाइल, जासूसी उपग्रहों और परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बियां विकसित करने का आदेश दिया गया है1 उन्होंने आगे कहा कि मौजूदा स्थिति को देखते हुए यदि हम अपनी सैन्य ताकत में इजाफा नहीं करते तो ये बेहद मूर्खतापूर्ण होगा. हमें हर खतरे के लिए खुद को तैयार करना होगा और दुश्मन को यह अहसास दिलाना होगा कि हम माकूल जवाब देने में सक्षम हैं.

  रॉबर्ट वाड्रा की बढ़ सकती है मुश्किलें, ईडी ने हाईकोर्ट से मांगी हिरासत में लेकर पूछताछ की इजाजत

वहीं किम की शक्तिशाली बहन ने उस बयान के लिए दक्षिण कोरियाई सेना की आलोचना की है, जिसमें प्योंगयांग की सैन्य परेड की बात कही गई थी. पिछले साल अंतर-कोरियाई संबंधों की प्रभारी बनाई गईं किम यो जोंग ने कहा कि दक्षिण कोरिया द्वारा हम पर इस तरह से नजर रखना उसका शत्रुतापूर्ण दृष्टिकोण प्रदर्शित करता है. दक्षिण कोरियाई सेना की तरफ से कहा गया था कि उसने प्योंगयांग में हुई सैन्य परेड देखी थी. किम की बहन के इस बयान से संकेत मिलता है कि वह अभी भी दोनों देशों के संबंधों को लेकर बनी समिति की प्रभारी हैं, लेकिन केसीएनए ने उन्हें सत्तारूढ़ पार्टी की केंद्रीय समिति की वाइस डिपार्टमेंट डायरेक्टर के रूप में संदर्भित किया है, जो यह दर्शाता है कि उनका डिमोशन हुआ है, क्योंकि पहले उन्हें फर्स्ट वाइस डिपार्टमेंट डायरेक्टर कहा जाता था.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *