रुसी हैंकर ने नासा और फेडरल एविएशन ऐडमिनिस्ट्रेशन के नेटवर्क में सेंधमारी

वॉशिंगटन . अमेरिकी संघीय एजेंसियों और उद्यमों पर व्यापक साइबर हमलों की कड़ी में हैकरों ने नासा और फेडरल एविएशन ऐडमिनिस्ट्रेशन के नेटवर्क में भी सेंध लगा दी है. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि बाइडेन प्रशासन रूस के खिलाफ प्रतिबंधों की तैयारी कर रहा है, क्योंकि कथित तौर पर साइबर अपराधी ‘संभवत: रूसी मूल के हैं. वाइट हाउस ने पिछले हफ्ते कहा था कि सोलर विंड्स हैक के परिणामस्वरूप नौ संघीय एजेंसियों और लगभग 100 निजी क्षेत्र की कंपनियों पर साइबर अटैक हुआ था.

  सैमसंग ने #PoweringDigitalIndia प्रतिबद्धता को किया और मजबूत; सैमसंग स्‍मार्ट स्‍कूल पहल के तहत 80 नए नवोदय स्‍कूलों में शुरू की सैमसंग स्‍मार्ट क्‍लासेस

व्यापक साइबर हमले की जांच सीनेट इंटेलिजेंस कमिटी को सौंपी गई है. कमेटी की सुनवाई से पहले ही नासा और एफएए के नेटवर्क में साइबर हैकरों द्वारा सेंध लगाने की बात सामने आई है. नासा के प्रवक्ता ने हालांकि इस रिपोर्ट का खंडन नहीं किया है, अलबत्ता यह जरूर कहा कि चूंकि अभी जांच चल रही है, इसलिए इस संबंध में विस्तृत जानकारी साझा नहीं की जा सकती है. एफएए के प्रवक्ता ने प्रतिक्रिया देने के अनुरोध का जवाब नहीं दिया. जिन अन्य संघीय एजेंसियों पर साइबर हमला किया गया हैं, उनमें वाणिज्य, ऊर्जा, मातृभूमि सुरक्षा, न्याय विभाग, खजाना और स्वास्थ्य संस्थान शामिल हैं.

  लर्निंग फ्रॉम होम: सैमसंग टैब्स ने प्री-प्राइमरी बच्चों के लिए पढ़ाई बनाई और भी मजेदार

इस तरह के साइबर अटैक का पता पिछले वर्ष चला जब ‘फायर-ई’ ने अपने नेटवर्क में हैकरों द्वारा सेंध लगाने की बात कही थी. साइबर एंड इमर्जिंग टेक्नोलॉजी के उप-राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ऐनी न्युबर्गर ने कहा कि साइबर अपराधी ‘संभवत: रूसी मूल के’ हैं और उन्होंने अमेरिका के अंदर से ही अपनी कार्रवाई को अंजाम दिया है. हमले को अंजाम देने के लिए हैकरों ने आईटी मैनेजमेंट कंपनी सोलर विंड्स द्वारा बिके ओरियन सॉफ्टवेयर में एक मैलवेयर लगाया था.

  गैलेक्सी S21 अल्ट्रा 5G पर मुझे तस्वीरों और 8K वीडियो स्नैप के बीच चुनाव करने की ज़रूरत नहीं थीः नैट जियो फोटोग्राफर प्रसेनजित यादव

न्युबर्गर ने कहा कि जैसा कि आप जानते हैं, लगभग 18,000 संस्थाओं ने मैलवेयर को डाउनलोड किया. इसलिए अभी तक हैकिंग के जितने मामलों का पता चला है, वास्विक संख्या इससे कहीं अधिक हो सकती है. उन्होंने कहा कि चूंकि हैकरों ने अमेरिका के अंदर से ही हैकिंग शुरू की, इसलिए अमेरिकी सरकार के लिए उनकी गतिविधियों पर नजर रखने में परेशानी हुई.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *