Wednesday , 29 September 2021

सैमसंग ने केएलई टेक यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर एक विश्वस्तरीय आर्टिफिशियल इंटैलिजेंस, मशीन लर्निंग एवं डेटा इंजीनियरिंग लैब स्थापित की

 

 

सैमसंग ने कर्नाटक (Karnataka) के हुबली में केएलई टेक यूनिवर्सिटी में एक विश्वस्तरीय आर्टिफिशियल इंटैलिजेंस, मशीन लर्निंग एवं डेटा इंजीनियरिंग लैब स्थापित की है. यह लैब मिलेनियल्स एवं जैन जैड के विद्यार्थियों को उभरते हुए अत्याधुनिक टेक क्षेत्रों में शोध करने तथा वास्तविक दुनिया की समस्याओं का समाधान तलाशने का अवसर देगी.

 

यह कर्नाटक (Karnataka) में सैमसंग के लिए अपनी तरह का पहला अभियान है. केएलई टेक में ‘सैमसंग स्टूडेंट ईकोसिस्टम फॉर इंजीनियर्ड डेटा (सीड) लैब’ में विद्यार्थी एवं फैकल्टी के सदस्यों को मोबाईल कैमरा टेक, स्पीच एवं टैक्स्ट रिकग्निशन, एवं मशीन लर्निंग के क्षेत्रों में काम कर रहे सैमसंग आरएंडडी इंस्टीट्यूट, बैंगलोर के सीनियर इंजीनियर्स के साथ संयुक्त शोध एवं विकास की परियोजनाओं में काम करने का अवसर मिलेगा.

  गुजरात में तेजी से कोरोना केस बढ़ने और फिर घटने को लेकर चौकानें वाला खुलासा

 

दीपेश शाह, मैनेजिंग डायरेक्टर, सैमसंग आरएंडडी इंस्टीट्यूट, बैंगलोर ने कहा, ‘‘भारत में युवा मिलेनियल्स और जैन जैड प्रतिभा का भंडार है. सैमसंग में हम इस लैब को युवा प्रतिभाओं का हब बनाना चाहते हैं, जो भारत में इनोवेशन के परिवेश को बढ़ावा दे, विद्यार्थियों की क्षमताओं का निर्माण कर उन्हें उद्योग के लिए तैयार करे और औद्योगिक-एकेडेमिया का सहयोग बढ़ाए. इससे ‘पॉवरिंग डिजिटल इंडिया’ के विज़न के लिए सैमसंग की प्रतिबद्धता मजबूत होगी.’’

 

क्ेएलई टेक. में सहयोगपूर्ण शोध के प्रोजेक्ट बी.टेक. एवं एम. टेक चौथे वर्ष एवं पीएचडी के विद्यार्थियों के लिए खुले रहेंगे. विद्यार्थियों को एसआरआई-बी इंजीनियर्स के साथ संयुक्त रूप से पेपर पब्लिश करने का भी प्रोत्साहन दिया जाएगा.

  7 सितंबर 2021 को भारत बंद को लेकर अलर्ट जारी, निषेधाज्ञा लागू

 

सैमसंग सीड लैब 3,000 वर्गफीट में विस्तृत है और यहां पर लाईटिंग उपकरणों के साथ स्पेशल डार्क रूम जैसी सुविधाएं हैं, जहां विविध तरह की रोशनियों, डिवाईस एवं एक्सेसरीज़, इमेज़ क्वालिटी टूल्स आदि के साथ मल्टीमीडिया (Media) में प्रयोग किए जा सकते हैं.

 

अशोक शेट्टर, वाईस चाँसलर, केएलई टेक्नॉलॉजिकल यूनिवर्सिटी, हुबली, कर्नाटक (Karnataka) ने कहा, ‘‘आज हमारी दुनिया डेटा पर केंद्रित हो रही है और एआई के साथ यह हमारे रहने, काम करने एवं व्यवसाय करने के तरीके को बदल रही है. सैमसंग सीड लैब एक बेहतरीन अभियान है, जो विद्यार्थियों को एसआरआई-बी इंजीनियर्स के अधीन काम करने एवं  सीखने का अवसर देगा. वो उन रिसर्च प्रोजेक्ट्स पर काम कर सकेंगे, जिनसे दुनिया की समस्याओं का समाधान हो सके.’’

  भारत बंद को लेकर दिल्ली किसानों की एंट्री बैन

 

एसआरआई-बी से हर प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद सभी विद्यार्थियों को उनके योगदान के लिए सर्टिफिकेट दिए जाएंगे.

 

सैमसंग अपने लोकप्रिय स्टूडेंट इंगेज़मेंट प्रोग्राम, सैमसंग प्रिज़्म के तहत आरएंडडी के विभिन्न प्रोजेक्ट्स, जैसे एआई, एमएल, इंटरनेट ऑफ थिंग्स एवं कनेक्टेड डिवाईसेस और 5जी नेटवर्क में कर्नाटक (Karnataka) में सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरिंग कॉलेजेस के विद्यार्थियों के साथ काम कर रहा है. पिछले दो सालों में इस प्रोग्राम की सफलता इस बात से प्रदर्शित होती है कि एसआरआई-बी इंजीनियर्स के साथ कई विद्यार्थियों ने ज्वाईंट पेटेंट दर्ज कराए हैं.

 

 

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *