शार्दुल ने गेंदबाजी में विविधता की अहमियत समझाई

नई दिल्ली (New Delhi) . टीम इंडिया ने रविवार (Sunday) को इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे और आखिरी वनडे में 7 रन से जीत दर्ज करते हुए सीरीज 2-1 से अपने नाम की. इंग्लैंड के ऑलराउंडर सैम करेन ने नाबाद 95 रन की पारी खेलकर भारतीय गेंदबाजों को दबाव में ला दिया था. लेकिन मेजबान टीम दबाव में बिखरी नहीं और 329 रन के लक्ष्य का बचाव करने में सफल रही. टीम की इस जीत में तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर और भुवनेश्वर (Bhubaneswar) कुमार का अहम रोल रहा. दोनों ने मैच में कुल 7 विकेट झटके और इंग्लैंड को 322 रन पर रोक दिया. शार्दुल ने मैच में 4 और भुवनेश्वर (Bhubaneswar) ने 43 रन देकर 3 तीन विकेट हासिल किए.

  क्रिस गेल अब संगीत के मैदान में, नया गाना 'जमैका टू इंडिया' रिलीज

सीरीज जीतने के बाद बीसीसीआई टीवी पर भुवनेश्वर (Bhubaneswar) कुमार ने शार्दुल ठाकुर का इंटरव्यू किया. इसमें उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ अपने गेम प्लान का खुलासा किया. शार्दुल ने बताया कि जब मैं गेंदबाजी करने आया था, तब इंग्लैंड के तीन विकेट गिर चुके थे और डेविड मलान, जोस बटलर जिस तरह से खेल रहे थे, उससे यही लग रहा था कि दोनों अच्छे फॉर्म में हैं. इसलिए मैंने विकेट लेने की कोशिश की. इसके लिए मैंने अलग-अलग तरह की गेंद आजमाई. इंग्लिश बल्लेबाजों को फांसने के लिए कभी कटर, कभी स्लो बॉल बाउंसर, कभी क्रॉस सीम गेंदबाजी का इस्तेमाल किया. क्योंकि सीमित ओवर क्रिकेट में बल्लेबाज को रोकने के लिए आपकी गेंदबाजी में विविधता होनी बहुत जरूरी है. इस तेज गेंदबाज ने इस इंटरव्यू में आगे कहा कि हमें ये पता था कि इंग्लैंड की बल्लेबाजी बहुत मजबूत है और अगर हम सही लाइन-लेंथ से गेंदबाजी नहीं करेंगे तो वो हमारे खिलाफ रन बनाने ना कोई मौका नहीं छोड़ेंगे.

  क्रिस गेल अब संगीत के मैदान में, नया गाना 'जमैका टू इंडिया' रिलीज

शार्दुल ने भी इस दौरान भुवनेश्वर (Bhubaneswar) कुमार से गेंदबाजी के दौरान बार-बार फील्डिंग बदलने के पीछे की वजह पूछी. इस सवाल के जवाब में भुवनेश्वर (Bhubaneswar) ने कहा कि जितना आप खेलते जाते हैं, उतना अनुभव मिलता है. इन सालों में मैंने ये सीखा है कि अगर आपको बल्लेबाज को परेशान करना है तो आप बार-बार फील्डिंग बदलते रहें. मैं दूसरे गेंदबाजों से लगातार सीखता हूं और फिर उन्हीं छोटी-छोटी बातों को अपनी गेंदबाजी में इस्तेमाल करता हूं. इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में ये दोनों गेंदबाज सफल रहे. शार्दुल ने सीरीज के तीन मैच में सबसे ज्यादा 7 और भुवनेश्वर (Bhubaneswar) ने 6 विकेट लिए. उनका इकोनॉमी रेट सबसे कम 4.65 रहा. वनडे सीरीज में अच्छे प्रदर्शन के बाद भुवनेश्वर (Bhubaneswar) अब टेस्ट क्रिकेट में वापसी की बात करने लगे हैं.

  क्रिस गेल अब संगीत के मैदान में, नया गाना 'जमैका टू इंडिया' रिलीज

उन्होंने भारतीय टेस्ट टीम में वापसी से जुड़े सवाल पर कहा कि बिल्कुल, रेड बॉल क्रिकेट मेरी रडार पर है. मैं अब टेस्ट क्रिकेट को दिमाग में रखकर तैयारी करूंगा. हालांकि, मुझे नहीं पता कि आगामी टेस्ट सीरीज के लिए किसी तरह की टीम चुनी जाएगी. लेकिन मेरी तैयारी इस फॉर्मेट के हिसाब से होगी.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *