संक्रमण को रोकने टीम के रूप में काम करें : शिवराज

जबलपुर (Jabalpur). मुख्यमंत्री (Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में शासन और प्रशासन के साथ जन-प्रतिनिधियों, समाज एवं आम जनता की भागीदारी को भी जरूरी बताते हुये कहा है कि मिलजुलकर ही हम इस वैश्विक महामारी (Epidemic) को परास्त कर सकते हैं. वे यहां जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे.

cm-jabalpur

उन्होंने कहा कि कोरोना मरीजों के उपचार में लापरवाही बरतने और गड़बड़ी करने वाले अस्पतालों तथा नकली इंजेक्शन एवं दवाओं के कारोबार में लिप्त लोगों के खिलाफ कठोर से कठोर कार्यवाही की जायेगी. मानवता के खिलाफ अपराध करने वाले ऐसे लोगों को किसी भी सूरत (Surat) में बख्शा नहीं जायेगा.

बैठक में कोरोना पर नियंत्रण को लेकर जिले के प्रभारी बनाये गये सहकारिता एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया, सांसद (Member of parliament) राकेश सिंह, विधायक अजय विश्नोई, श्रीमती नन्दिनी मरावी, अशोक रोहाणी, सुशील तिवारी इंदू, लखन घनघोरिया, विनय सक्सेना, तरुण भनोत, डॉ. जीतेन्द्र जामदार, संभागायुक्त बी. चंद्रशेखर, आईजी पुलिस (Police) बी.एस. चौहान, कलेक्टर (Collector) कर्मवीर शर्मा एवं पुलिस (Police) अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा भी मौजूद थे.

यह भी पढ़ें : बीना का कोविड अस्‍पताल 25 मई से काम शुरू करेगा

सीएम ने अस्थाई कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया

ccc-cm

शिवराज सिंह चौहान ने जबलपुर (Jabalpur)शहर के माढ़ोताल क्षेत्र में हाल ही में राज्य शासन और जन-सहयोग से निर्मित 500 बिस्तरों की क्षमता वाले अस्थाई कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया. वीरांगना रानी दुर्गावती के नाम पर नवनिर्मित इस अस्थाई कोविड केयर सेंटर को जिला प्रशासन, जन-प्रतिनिधियों और समाज के सहयोग से तैयार किया गया है.

  [सेहत भरा शुक्रवार] टोफू टिक्का के साथ वजन की चिंता से मुक्त होकर इस सप्ताहांत लीजिए स्वाद के चटखारे

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि कोरोना महामारी (Epidemic) के इस दौर में संक्रमित लोगों के इलाज के लिए सरकार, जबलपुर (Jabalpur)की जनता और समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से बना यह कोविड केयर सेंटर सामाजिक सहभागिता का उत्तम उदाहरण है.

उन्होंने सर्व-सुविधायुक्त कोविड केयर सेंटर तैयार करने में भागीरथी प्रयास के लिए सांसद (Member of parliament) सहित विधायकों, जिला प्रशासन के अधिकारियों, चिकित्सकों, समाजसेवियों और जबलपुर (Jabalpur)की जनता को हृदय से बधाई देते हुए कहा कि यहाँ मरीजों को अच्छा और बेहतर उपचार मिल सकेगा.

उन्होंने बताया कि यहाँ शासकीय व निजी अस्पतालों के डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टॉफ बारी-बारी से मरीजों का उपचार करेंगे. उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में अलग-अलग स्थानों में ऐसे कोविड केयर सेंटर बनाये जा रहे हैं.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से प्रदेश में कोरोना के प्रकरणों में आई कमी आई है. इस महामारी (Epidemic) से आम जनता को बचाने में सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी. उन्होंने सभी राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एक टीम के रूप में काम करना होगा और जबलपुर (Jabalpur)तथा प्रदेश को कोरोना से मुक्त करना होगा.

  एंटीलिया मामले में शिवसेना नेता को NIA ने किया गिरफ्तार

उन्होंने कहा कि वे एक सकारात्मक सोच के साथ क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी में शामिल सभी राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से चर्चा करने और कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उनका सहयोग लेने जबलपुर (Jabalpur)आये हैं. चौहान ने जबलपुर (Jabalpur)जिले में कोरोना पर नियंत्रण के लिये किये जा रहे प्रयासों पर संतोष व्यक्त किया.

उन्होंने कोरोना की तीसरी लहर की जताई जा रही संभावनाओं को देखते हुये अभी से तैयारियां प्रारंभ करने की बात कही. मुख्यमंत्री (Chief Minister) चौहान ने कहा कि भविष्य को ध्यान में रखते हुये ऑक्सीजन और आईसीयू बेड की संख्या बढ़ाने की दिशा में अभी से काम करना होगा. ग्रामीण क्षेत्रों में भी इस ओर ध्यान देने की आवश्यकता है, अत: विधायकों को अपने-अपने क्षेत्र में इसकी अगुवाई करनी होगी.

चौहान ने आयुष्मान कार्डधारी कोरोना संक्रमितों को समुचित उपचार कराने पर विशेष ध्यान दिये जाने के निर्देश अधिकारियों को दिये. उन्होंने सभी पात्र व्यक्तियों के आयुष्मान कार्ड तत्काल बनाने के भी निर्देश दिये, जिससे गरीब और मध्यम वर्ग के कोरोना संक्रमितों का नि:शुल्क उपचार हो सके. उन्होंने जबलपुर (Jabalpur)जिले में पात्र व्यक्तियों के आयुष्मान कार्ड बनाने के कार्य के प्रति संतोष व्यक्त किया.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने किल कोरोना अभियान पर चर्चा करते हुये ग्रामीण क्षेत्रों में इसके प्रभावी क्रियान्वयन के लिये शासकीय अमले के साथ स्थानीय जन-प्रतिनिधियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं को जोड़ने की जरूरत बताई. इनकी मदद से घर-घर सर्वे के दौरान सर्दी-खाँसी, बुखार से पीड़ित लोगों को चिन्हित किया जा सके और दवाओं की किट देकर समय पर उनका उपचार शुरू किया जा सके.

  कोरोना के करीब 20 फीसदी गैर लक्षणी मरीज

चौहान ने जिले में वैक्सीनेशन कार्य की समीक्षा भी की. उन्होंने कहा कि वैक्सीन का एक भी डोज व्यर्थ न जाये, यह सभी को सुनिश्चित करना होगा. उन्होंने कहा कि 18 वर्ष से अधिक आयु के युवाओं को कोरोना की वैक्सीन लगाने का खर्च सरकार वहन करेगी. सरकार की कोशिश है कि युवाओं को जितनी जल्दी हो सके कोरोना की वैक्सीन लगाई जाये.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने वैक्सीन को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में फैलाई जा रही भ्रांतियों और अफवाहों को दूर करने जागरूकता अभियान चलाने की बात कही. बैठक में आपदा प्रबंधन समिति के सदस्यों द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर कई महत्वपूर्ण सुझाव भी दिये गये.

सांसद (Member of parliament) राकेश सिंह ने आयुष्मान योजना को नये स्वरूप में लागू कर आयुष्मान कार्डधारियों को निजी अस्पतालों में नि:शुल्क उपचार दिये जाने के निर्णय के लिये जबलपुर (Jabalpur)जिले की जनता की ओर से मुख्यमंत्री (Chief Minister) चौहान का आभार जताया.


न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *