महिला आयोग का सदस्य बनाने के लिए स्मृति ने मांगे 25 लाख, अंतर्राष्ट्रीय निशानेबाज वर्तिका ने कर्ज कराया केस

सुल्तानपुर . अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज़ वर्तिका सिंह ने महिला आयोग का सदस्य बनाने के नाम पर 25 लाख रूपए मांगने का आरोप लगाते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, उनके कथित सहायक विजय गुप्ता और डाक्टर रजनीश सिंह के ख़िलाफ़ ‘एमपी-एमएलए कोर्ट’ में शिकायत दर्ज कराई है. वर्तिका के अधिवक्‍ता ने बताया कि अदालत ने इस मामले की सुनवाई के लिए अगले साल दो जनवरी 2021 की तारीख निर्धारित की है.

उल्‍लेखनीय है कि 23 नवंबर को अमेठी के मुसाफिरखाना थाना में वर्तिका सिंह और कमल किशोर के खिलाफ विजय कुमार गुप्‍ता ने एक केस दर्ज कराया था, जिसमें आरोप लगाया गया है कि आयुष राज्‍य मंत्री, भारत सरकार को रायबरेली (Bareilly) में अस्‍पताल के निर्माण के लिए संदर्भित पत्र की प्रतापगढ़ जिले के रामचंद्रपुर निवासी केपी सिंह‍ की पुत्री वर्तिका सिंह कूट-रचना कर (विषय वस्तु बदल कर) मेरे विरूद्ध निराधार आरोप लगाकर मानसिक रूप से परेशान कर रही हैं.

  घर-घर जाकर लोगों को टीका लगाना संभव नहीं

गुप्‍ता ने यह भी आरोप लगाया कि वर्तिका सिंह और कमल किशोर सहित अन्‍य लोग उनकी छवि धूमिल करने का षडयंत्र कर रहे हैं. गुप्‍ता ने इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने मांग की थी. इस संदर्भ में मुसाफिरखाना पुलिस (Police) ने वर्तिका सिंह और कमल किशोर के खिलाफ सूचना प्रौद्योगिकी संशोधन अधिनियम की संबद्ध धाराओं के साथ भारतीय दंड सं‍हिता की धारा 509 (आपराधिक धमकी देने) के तहत एक मुकदमा दर्ज किया है. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के प्रतापगढ़ जिले की रहने वाली अंतर्राष्ट्रीय निशानेबाज़ वर्तिका ने आरोप लगाया है कि मंत्री की शह पर उनके करीबियों ने महिला आयोग की सदस्य पद का फर्जी नियुक्ति पत्र उन्हें जारी किया.
उन्होंने आरोप लगाया कि पहले बड़ी-बड़ी बातें करके उन्हें गुमराह किया गया, फिर कहा गया कि इस पद का रेट एक करोड़ रूपए है, लेकिन मेरी अच्छी प्रोफाइल होने की वजह से 25 लाख रुपए की मांग़ की गई.

  प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगातार कम हो रहा : शिवराज

वर्तिका ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय मंत्री के करीबी ने उनसे अश्‍लील बातचीत भी की. वर्तिका के अनुसार, उन्होंने जब इसका विरोध किया, तो विजय गुप्ता ने मुसाफिरखाना थाने में उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया. वर्तिका के अधिवक्ता रोहित त्रिपाठी ने बताया विशेष न्यायाधीश (judge) ‘एमपी-एमएलए कोर्ट’ पी के जयंत ने अधिकार क्षेत्र पर सुनवाई को लेकर दो जनवरी की तारीख तय की है. उन्होंने कहा कि पीड़िता को भेजे गए अश्लील संदेश और बातचीत के पर्याप्त साक्ष्य कोर्ट में पेश किए गए हैं.

  रिफाइनरी के पास बन रहा कोविड केयर सेंटर पूर्णता की ओर

 

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *