इराक में बर्फबारी : 100 साल में दूसरी बार, 48 घंटे में 4 इंच बर्फ

बगदाद. इराक में सदी में दूसरी बार दुर्लभ नजारा देखने को मिला है. यहां पर 48 घंटे में 4 इंच से ज्यादा बर्फबारी हुई है. खाड़ी देशों में पानी मिलना ही बेहद मुश्किल है, ऐसे में अचानक बर्फबारी ने मौसम खुशनुमा बना दिया. तापमान गिरकर 5 डिग्री पर पहुंच गया. इराक की यह बर्फबारी सदी की सबसे शानदार बर्फबारी कही जा रही है. इससे पहले 2008 में बर्फबारी तो हुई थी, पर इतनी नहीं थी. इतनी बर्फ तो 1914 में ही दिखी थी.

  अमेरिका में फंसे भारतीयों की मदद के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त

मौसम विभाग के अनुसार, बर्फबारी का यह सिलसिला 48 घंटे तक चल सकता है. बर्फ की सफेद चादर राजधानी समेत शिया समुदाय के पवित्र शहर कर्बला और मोसुल में भी दिखाई दी. मौसम विभाग के मुताबिक बर्फबारी उत्तरी इराक में सामान्य है, लेकिन मध्य और दक्षिणी इराक में यह दुर्लभ है. आमतौर पर इराक में भीषण गर्मी रहती है. हाल के वर्षों में गर्मी में बगदाद का तापमान 51 डिग्री तक चला गया था.

वर्ल्ड मेट्रोलोजिकल डिपार्टमेंट के मुताबिक इराक में फरवरी में बर्फ गिरना दुर्लभ है. मौसम में हालिया बदलाव यूरोप में तूफान और बर्फीली हवाओं के कारण हुआ है. पिछले महीने संयुक्त अरब अमीरात में भी जोरदार बारिश हुई थी. इन बदलावों की बड़ी वजह तो क्लाइमेट चेंज ही है. मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि समुद्र का तापमान कनेक्टिव सिस्टम को प्रभावित करता है.

  सफाईकर्मी बिना मास्क व सैनिटाइजर के कर रहे ड्यूटी

पिछले कुछ साल में क्लाइमेट चेंज के कारण इस तापमान में बढ़ोतरी हुई है. इसका असर साफ दिखने लगा है. ग्रीन हाउस गैसों का निकलना भी इसकी एक बड़ी वजह है. खाड़ी देश बड़ी मात्रा में इन गैसों का उत्सर्जन करते हैं. 2018 में भी इसी वजह से मौसम असामान्य हुआ था और सूखा पड़ा था. लेकिन अगले ही साल भारी बारिश और बाढ़ ने घरों और फसलों को तबाह कर दिया था. इस साल की शुरुआत से ही मौसम ने अलग-अलग रंग दिखाने शुरू कर दिए हैं. इस पूरे सालभर मौसम बदलता रहेगा.

  अभिषेक ने देश की सेवा में लगे कर्मियों को दिया धन्यवाद

Check Also

कोरोना पॉजिटिव पाया गया चोर पुलिसकर्मियों में हड़कंप

लुधियाना . पंजाब में पुलिस (Police)कर्मियों उस वक्त हड़कंप मच गया जब उन्हें पता चला …