Thursday , 28 January 2021

पिता के साथ गाय के तबेले में हाथ बंटाने वाली सोनल शर्मा बनीं जज

पहली बार महज तीन अंकों से सफल होने से रह गई थीं, जारी रखी मेहनत

उदयपुर (Udaipur) . मुश्किल ​परिस्थितियों में भी यदि हिम्मत नहीं हारी जाये तो सफलता जरूर कदम चूमती है. उदयपुर (Udaipur) की 26 वर्षीय बेटी सोनल शर्मा ने भी ऐसा ही कारनामा करके दिखाया है. हाल ही में आये राजस्थान (Rajasthan)न्यायिक सेवा परीक्षा के परिणामों में सोनल शर्मा ने सफलता हासिल की है. अब वे जज बनेंगी.

  कोरोना जंग की योद्धा डॉ उपासना चौधरी

सोनल शर्मा उदयपुर (Udaipur) के प्रतापनगर इलाके की रहने वाली हैं. अपने पिता का हाथ बंटाने के लिये सोनल अधिकांश समय गाय के तबेले में काम करते हुए बिताती हैं. यहीं नहीं सोनल शर्मा ने कई बार अपनी पढ़ाई भी इसी तबेले में खाली पीपों की टेबल बनाकर की थी. वह तबेले में गाय का गोबर उठाना, दूध निकालना और तबेले की साफ सफाई करने का कार्य कर अपने पिता की मदद करती थी.

  दिल्ली में एक ज़िले में 60% ऐसे लोग पाए गए जिनमें कोरोना के ख़िलाफ़ एंटीबाडी मिली

सोनल शर्मा ने दूसरी बार में यह सफलता हासिल की है. पहली बार में वह महज तीन अंकों से सफल होने से रह गई थीं. लेकिन सोनल निराश नहीं हुई और उसने मेहनत जारी रखी. इस बार सोनल ने अपनी मेहनत को इतनी खमोशी के साथ की कि उसकी सफलता ने शोर मचा दिया. सोनल शर्मा कोचिंग भी नहीं कर पाई थी. सोनल के पिता ख्यालीलाल का मानना है कि घर में गायों की सेवा करने के फल सोनल को मिला है. वहीं सोनल मां जशोदा चाहती हैं कि अब उनकी बेटी ईमानदारी के साथ पीड़ित व्यक्तियों को न्याय दिलाये यह उनकी कामना है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *