स्कूलों में जिंदगी का ककहरा सीखते हैं छात्र

नई दिल्ली (New Delhi) . किसी बच्चे के लिए, माता-पिता उनके पहले शिक्षक होते हैं, लेकिन जैसे ही बच्चा बढ़ता है, वह समय उसकी सीमाओं को विविध बनाने और उसे स्वतंत्र, शानदार, और एक भरोसेमंद व्यक्तित्व में विकसित करने का होता है.

उन्होने कहा कि आज के जमाने में, शिक्षक की भूमिका सिर्फ शिक्षा मुहैया कराने तक सीमित नहीं है बल्कि अपने विद्यार्थियों के समग्र विकास में भी मददगार है. स्कूल आपके बच्चे को न सिर्फ शैक्षिक समझ प्रदान करते हैं बल्कि स्पोट्र्स या मनोरंजन गतिविधियों में भी उन्हें सक्षम बनाते हैं. शिक्षक और स्कूल स्टाफ छात्रों पर सकारात्मक असर डालते हैं और उन्हें ऐसे कौशल विकास के लिए प्रोत्साहित करते हैं जिससे उन्हें अपनी जिंदगी के सफर में मदद मिलेगी. स्कूल परोक्ष या अपरोक्ष तौर पर छात्रों पर सकारात्मक असर डालते हैं. प्रत्येक स्कूल छात्र (student) जिंदगी पर असर डालने में महत्वपूर्ण योगदान देता है, क्योंकि इससे उन्हें अपनी अधिकतम शैक्षिक क्षमता को सामने लाने में मदद मिलती है. एक प्रभावााली और सक्षम स्कूल न सिर्फ एबीसी और 123 सिखाने तक सीमित होता है बल्कि शिक्षक छात्रों को नई चीजें सिखाने के प्रभावी तरीकों पर लगातार काम करते हैं. इस तरह से छात्र (student) समस्याएं सुलझाने के कौशल सीखते हैं. ये एक्स्ट्रा को-करीकुलर एक्टीविटीज ऐसी मानसिक ताकत और स्थायित्व के निर्माण में मददगार होती हैं जिनसे छात्रों को ज्यादा स्वतंत्र और पेशेवर बनाने का अवसर मिलता है. समस्या समाधान या समाधान तलााने से छात्रों को सफल होने तक प्रयास करते रहने की प्रेरणा मिलती है.

  पॉजीटिव होने के बावजूद यात्रा करना पड़ा भारी, इंडिगो सहित 3 के विरूद्ध FIR दर्ज

मुख्य फोकस शिक्षा पर होने के साथ स्कूलों का दूसरा कार्य भी है और वह है बच्चे के अंदर ज्ञानवर्द्धक कौशल का निर्माण करना. एक छात्र (student) शैक्षिक तौर पर श्रेठ प्रर्दान नहीं कर सकता है, लेकिन दोस्तों और सहपाठियों के समर्थन से, छात्र (student) अपनी क्षमता बढ़ाते हैं और दूसरे छात्रों के साथ आकर्षक संवाद के बारे में सीखते हैं, और इसे मजबूत संबंधों के तौर पर प्रदर्शित करते हैं. किसी बच्चे की भावनात्मक और सांस्कृतिक परिपक्वता अन्य सभी क्षेत्रों में बाल विकास के लिए जरूरी आधारों का प्रतिपादन करती है. छात्र (student) अपना ज्यादातर समय स्कूल में बिताते हैं और एक मजबूत सामाजिक संबंध के निर्माण और सहानुभूतिपूर्ण तरीके से छात्रों के विकास के लिए अच्छे पाठ्यक्रम महत्वपूर्ण होते हैं

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *