सागौन की लकड़ी बनाएगी किसानों को धनाढ्य

हर साल मिलेंगे सर्वोत्कृष्ट सागौन के एक लाख पौधे, प्रदेश में शुरू हुआ सर्वोत्तम सागौन वृक्षों से पौधे बनाने का वैज्ञानिक कार्य

भोपाल . सरकार ने अब कीमती सागौन की लकड़ी से प्रदेश के किसानों की आय बढ़ाने की योजना बनाई है. सौगौन की लकड़ी बेहद कीमती होती है और मध्‍य प्रदेश को अब इसकी नई पहचान दी जाएगी. सागौन की कीमती इमारती लकड़ी किसानों की आय का मजबूत स्त्रोत बनेगी.

teak-plant

प्रदेश में पहली बार इंदौर वन वृत्त की टिश्यू कल्चर प्रयोगशाला में सागौन के धन वृक्षों से उच्च गुणवत्ता के टू-टू-टाईप (हूबहू) पौधे तैयार किये जा रहे हैं. ये पौधे अपने पैरेन्ट वृक्ष के समान ही सर्वोत्कृष्ट प्रमाणित गुणवत्ता वाले होंगे.

इससे किसानों को हर साल सर्वोत्कृष्ट प्रमाणित गुणवत्ता वाले एक लाख पौधे मिल सकेंगे. सागौन की लकड़ी का मूल्य बाजार में 50 से 60 हजार रुपये प्रति घनमीटर है. प्रमाणित पौधों के विकसित होने पर मध्यप्रदेश सागौन में उच्च गुणवत्ता की लकड़ी के लिये पहचाना जायेगा.

  मध्य रेल- रेल सुरक्षा बल सामाजिक आउटरीच के हर पहलू में फ्रंटलाइन कोरोना योद्धा

प्रधान मुख्य वन संरक्षक पी. सी. दुबे ने बताया कि इंदौर की टिश्यू कल्चर प्रयोगशाला में सागौन, बाँस और संकटापन्न प्रजातियों के पौध तैयारी का कार्य राज्य अनुसंधान विस्तार जबलपुर और इन्स्टीट्यूट ऑफ फॉरेस्ट जेनेटिक्स एण्ड ट्री ब्रीडिंग कोयम्बटूर के तकनीकी सहयोग से सफलतापूर्वक किया जा रहा है. वर्ष 2019 से प्रारंभ इस कार्य के लिये देवास वन मंडल के पुंजापुरा परिक्षेत्र के चयनित 2320 उत्कृष्ट सागौन वृक्षों में से पाँच धन वृक्षों का चयन किया गया.

इनमें रातातलयी के चार और जोशी बाबा वन समिति का एक सागौन वृक्ष शामिल है. इन वृक्षों की उँचाई लगभग 28 मीटर और चौड़ाई 72 से.मी. है. धन वृक्ष से आशय है बीमारी रहित सर्वोच्च गुणवत्ता वाले वृक्ष. श्री दुबे ने कहा कि जंगलों से सागौन के पेड़ कम होते जा रहे हैं. टिश्यू कल्चर से हजारों प्रमाणित गुणवत्ता वाले पौधे तैयार किये जा सकेंगे और भविष्य में प्रदेश देश की सर्वोत्कृष्ट सागौन लकड़ी का भंडार प्रदेश होगा.

  भारत चीन सीमा पर चीनी सेना का भारी जमावड़ा, भारत ने भी बढाए सैनिक

टिश्यू कल्चर पद्धति से बनेगा पौधा

सागौन का पौधा विभिन्न चरणों में तैयार होता है. चयनित धन वृक्षों की शाखायें लेकर उपचार के बाद पॉलीटनल में रखकर अंकुरित करते हैं. अंकुरण के बाद तीन-चार से.मी. की शूट होने पर उसको एक्सप्लांट के लिये अलग कर लेते हैं. इसके बाद एक्सप्लांट की सतह को एथनॉल आदि से अच्छी तरह साफ कर इसे कीटाणु रहित किया जाता है. तत्पश्चात् स्टरलाइज्ड एक्सप्लांट को सावधानीपूर्वक टेस्ट ट्यूब में ट्रांसफर किया जाता है. टेस्ट ट्यूब में पौधा 25 डिग्री सेल्ससियस +2 डिग्री सेल्ससियस पर 16 से 8 घंटे की लाइट पर 45 दिनों तक रखा जाता है. लगातार दो हफ्ते की निगरानी और तकनीकी रखरखाव के बाद एक्सप्लांट से नई एपिकल शूट उभर आती हैं. अब इनकी 6 से 8 बार सब कल्चरिंग की जाती है. लगभग 30 से 40 दिनों के बाद 4 से 5 नोड वाली शूट्स प्राप्त होती हैं. जिन्हें फिर से काटकर नये शूटिंग मीडिया में इनोक्यूलेट किया जाती है. इसके बाद शूट को डबल शेड के नीचे पॉलीप्रोपागेटर में 30 से 35 डिग्री तापमान और 100 प्रतिशत आद्रता पर लगाया जाता है. लैब में तैयार पौधे वर्तमान में 15 से.मी. ऊँचे हो चुके हैं. अभी किसानों को बीज से विकसित सागौन पौधे मिलते हैं. जिनकी गुणवत्ता प्रमाणित नहीं होती. निजी पौध-बीज विक्रेता किसानों को मनमाने दाम पर पौधे बेच देते हैं. जिनकी गुणवत्ता की कोई गारंटी नहीं होती.

  भारत में कोरोना पर अब भी कंट्रोल नहीं देश में 24 घंटे में 6535 नए केस और 146 मौतें

Check Also

इंडेक्स बना पहला मेडिकल कॉलेज जिसने छात्रों की पढ़ाई के लिए तैयार करवाया अपना online पढ़ाई का प्लेटफार्म – माय इंडेक्स प्लेटफ़ॉर्म

इंदौर (Indore). लॉकडाउन (Lockdown) में शिक्षण संस्थानों के सामने सबसे बड़ी चुनौती छात्रों की पढ़ाई …