Saturday , 27 February 2021

साइबर सेफ्टी- सफल समाज कि धुरी: डॉ नरेंद्र सिंह राठौड़ 

उदयपुर (Udaipur). महाराणा प्रताप कृषि एवम प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति डॉ नरेंद्र सिंह राठौड़ ने विश्वविद्यालय के संघटक सामुदायिक एवम व्यावहारिक विज्ञान महाविद्यालय द्वारा दिनांक 09 फरवरी 2021 को अंतर्राष्ट्रीय सेफर इंटरनेट डे के अवसर पर आयोजित “साइबर क्राइम एवं सेफ्टी विषयक कार्यशाला“ के दौरान व्यक्त किये.

डॉ राठौड़ ने अपने उद्बोधन में साइबर क्राइम के बढ़ते ग्राफ पर चिंता जताते हुए कहा कि आमजन में जागरूकता की कमी की साथ ही मार्केट में मिलने वाली सस्ती चीजों के प्रति आकर्षण भी इसका प्रमुख कारण हैं जिसके चलते कोई भी हैकर के जाल में फंस  जाता हैं आपने सभी से अपील की कोई भी अपनी व्यक्तिगत जानकारी अनजाने लोगों व् जगह पर शेयर ना करे. के स्वागत करते हुए अधिष्ठाता डॉ मीनू श्रीवास्तव ने न केवल छात्राओं अपितू प्रत्येक व्यक्ति के लिए इंटरनेट संबंधी सुरक्षा के कार्यक्र्रम की अनिवार्यता पर बल दिया. आपने  गृह विज्ञानं का विषय क्षेत्र समुदाय तक विस्तृत होने के कारण इस प्रकार के  आयोजन को सामाजिक व् सांस्कृतिक दृष्टि से अनुकरणीय बताया.

  दोनों घुटने बदलकर महिला के टेड़े पैर सीधे किए

डॉ. गायत्री तिवारी, विभागाध्यक्षा, मानव विकास तथा पारिवारिक अध्य्यन विभाग  व् आयोजन सचिव  ने बताया की छात्राओं में विशेष दिवसों की जागरूकता जगाने हेतु इस प्रकार के कार्यक्रम किये जाने चाहिए. साइबर सेफ्टी को उन्होंने न केवल वैश्विक अपितु पारिवारिक स्तर पर बताते हुए कहा कि अनजाने में हुए साइबर अपराधों के कई दूरगामी परिणाम होते हैं जिसका खामियाजा प्रत्यक्ष व् अप्रत्यक्ष रूप से सभी को भरना पड़ता हैं.

  किडनी से डेढ़ किलो वजनी गांठ निकाली

प्रायोजक डॉ अजय शर्मा सी.टी.ए.ई., समन्वयक  नाहेप- आई. डी. पी. ने वर्तमान में परिवेश के उदहारण देते हुए इस विषय पर सभी को जागरूक करने कि महती आवश्यकता बताई. डॉ शांति कुमार शर्मा, अनुसन्धान निदेशक ने अपने उद्बोधन में प्रतिभागियों से आग्रह किया कि इस विषय में अधिकाधिक जानकारी प्राप्त कर दैनंदिन जीवन में अपराधों से बचें  एवं परिवार का भविष्य सुरक्षित करे.

छात्र (student) कल्याण अधिकारी डॉ. सुधीर जैन ने आग्रह किया कि जिस प्रकार हम अपनी चल-अचल संम्पति और दस्तावेज की संभाल करते हैं ठीक उसी तरह अपने डेटा व् व्यक्तिगत जानकारी को भी बचा कर रखना चाहिए. सु विशाखा त्यागी द्वारा दी गयी परिचयात्मक टिपण्णी के पश्चात मुख्य वक्ता श्रीमती श्रद्धा चतुर्वेदी, साइबर सिक्योरिटी कंसलटेंट हिकम्पली लिमिटेड यु.के. ने पावर पॉइंट के माध्यम से इंटरनेट की आवश्यकता एवं महत्व को समझाते हुए साइबर अटैक, साइबर क्राइम, साइबर सिक्योरिटी, साइबर लॉ, साइबर ऑफेन्स, डिजिटल लॉकर के बारे में सारगर्भिक जानकारी देते हुए डेटा प्राइवेसी से सम्बंधित मिथ्या एवं सत्य से अवगत कराया.

  वेदांता चैयमेन अनिल अग्रवाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भेंट की ‘समाधान‘ परियोजना में उगाई स्ट्रॉबेरी

प्रतिभागियों की जिज्ञासाओं का समाधान प्रश्नोतरी  के माध्यम से किया गया जिसकी संचालक  डॉ. हेमू राठौड़ थी . संयोजन विभाग की डॉ. स्नेहा जैन,समन्वयक एवम श्रीमती रेखा राठौड़, तकनीकी सहायक  द्वारा किया गया.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *