डोडा मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने हिजबुल के शीर्ष कमांडर को किया ढे़र


जम्मू . जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले में बुधवार को सुरक्षा बलों को बड़ी कामयाबी मिली. सुरक्षाबलों से मुठभेड़ के दौरान हिजबुल मुजाहिदीन के एक शीर्ष आतंकवादी को मार गिराया है. जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया कि हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकवादी चार हत्याओं और हथियार छीनने की दो घटनाओं में शामिल था. इसके अलावा वह चिनाब घाटी क्षेत्र में फिर से आतंकवाद को जीवित करने का प्रयास कर रहा था. सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा कि जनवरी के पहले 15 दिन बहुत ही घटना प्रधान रहे और इस दौरान आतंकवादियों के खिलाफ कश्मीर में तीन और जम्मू क्षेत्र के डोडा जिले में एक प्रभावी ऑपरेशन किए गए. इनमें हिजबुल मुजाहिदीन का एक खूंखार आतंकवादी हारून अब्बास वानी मारा गया.

  सर्वे : अमेरिकी चुनाव में फायदा पहुंचाएगी यात्रा

जम्मू क्षेत्र के जनसंपर्क अधिकारी (रक्षा) लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि जिले के गोंडाना इलाके में सेना और पुलिस के जवानों की संयुक्त टीम की आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ हुई. पुलिस प्रमुख ने कहा कि डोडा के गट्टा बेल्ट का निवासी वानी नवंबर 2018 में एक भाजपा नेता और उनके भाई की सनसनीखेज हत्या में ओसामा के साथ शामिल था. वह पिछले साल जनवरी में आरएसएस के एक पदाधिकारी और उनके पीएसओ की हत्या के अलावा किश्तवाड़ जिले में 2019 में हथियार छीनने की दो घटनाओं में भी शामिल था. अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षा बलों को इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में जानकारी मिली थी.

  दिल्ली हिंसा: अब तक 17 की मौत, सुनवाई के लिए देर रात खुली कोर्ट, जफरबाद खाली, अब शाहीनबाग की बारी

इससे पहले डोडा-किश्तवाड़-रामबन रेंज के पुलिस उप महानिरीक्षक सुजीत कुमार ने बताया कि मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन का सदस्य हारून वानी मारा गया, जो ए ++ श्रेणी का आतंकवादी था.उन्होंने कहा कि एक अन्य आतंकवादी बर्फीले क्षेत्रों की ओर भाग गया और उसे पकड़ने के लिए अभियान जारी है. कुमार ने कहा कि एक एके-47 राइफल, तीन मैगजीन, 73 कारतूस, एक चीनी ग्रेनेड और एक रेडियो सेट बरामद किए गए हैं.

डोडा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुमताज अहमद ने बताया कि संयुक्त टीमों ने कल रात तलाशी अभियान शुरू किया था और बुधवार सुबह आठ बजे वे वांछित आतंकवादी को मार गिराने में सफल रहे. हारून हिजबुल मुजाहिदीन का जिला कमांडर था. अधिकारियों ने बताया कि इंजीनियर गुलाम अब्बास वानी का पुत्र हारून पहली बार सुर्खियों में तब आया था जब एक एके-47 राइफल के साथ उसकी तस्वीर सितंबर 2018 में सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी और वह प्रतिबंधित संगठन में शामिल हुआ था. हारून डोडा के गुलाम अब्बास वानी के आठ बच्चों में से एक था. अधिकारियों के अनुसार वानी के सभी बच्चे उच्च शिक्षा प्राप्त हैं. हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल होने से पहले हारून ने कटरा विश्वविद्यालय से एमबीए पूरा किया और एक निजी कंपनी में काम कर रहा था. उसके रिश्तेदारों के अनुसार, वह एक होनहार छात्र था.

  हैक्यूवारन स्वट्रपिलान 250 और विटपिलान 250 बाइक भारत में लांच

Check Also

चौथी मंजिल से गिरी छात्रा ने अस्पताल मे तोडा दम

भोपाल. राजधानी के शाहजहांनाबाद इलाके में चौथी मंजिल से गिरकर एक छात्रा की मौत हो …