सिंगापुर में नए मंत्रिमंडल ऐलान, शपथ ग्रहण समारोह 27 को, भारतीय मूल के लोगों को सोंपी गई हैं अहम जिम्मेदारियां


सिंगापुर. सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन लूंग की पार्टी के 2020 आम चुनाव में 61.24 प्रतिशत मत हासिल करने के 15 दिन बाद प्रधानमंत्री ने शनिवार (Saturday) को अपने नए मंत्रिमंडल की घोषणा की. सिंगापुर में राष्ट्रपति कार्यालय इस्ताना और संसद में सोमवार (Monday) को मंत्रिमंडल के सदस्य एवं अन्य अधिकारी शपथ लेंगे. नए मंत्रिमंडल में पहले की ही तरह 37 मंत्री होंगे. ली ने कहा कि नया मंत्रिमंडल मौजूदा जन स्वास्थ्य संकट एवं आर्थिक संकट से बाहर निकलने के लिए देश का नेतृत्व करेगा.

हेंग स्वी कीट को पहले की तरह उप प्रधानमंत्री एवं वित्त मंत्री बनाया गया है. इसके अलावा उन्हें नए मंत्रिमंडल में आर्थिक नीतियों के समन्यक मंत्री के तौर पर भी जिम्मेदारी सौंपी गई है. तियो चीन हियान पहले की ही तरह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए वरिष्ठ मंत्री एवं समन्यवक मंत्री के तौर जिम्मेदारी निभाएंगे और भारतीय मूल के तरमन शणमुगरत्नम भी सामाजिक नीतियों के लिए वरिष्ठ मंत्री एवं समन्वयक मंत्री के तौर पर जिम्मेदारी निभाते रहेंगे. ये दोनों मंत्री पीएमओ में भी सेवाएं देंगे.

भारतीय मूल के के. शणमुगम को कानून एवं गृह मंत्रालय, भारतीय मूल के ही डॉ. विवियन बालकृष्णन को विदेश मंत्रालय और भारतीय मूल के एक अन्य नेता एस ईश्वरन को संचार एवं प्रसार मंत्री का कार्यभार सौंपा गया है. इद्राणी राजा को राष्ट्रीय विकास के लिए वरिष्ठ मंत्री बनाया गया है. इसके अलावा मंत्रालय में नए चेहरों को भी जगह दी गई है. लूंग की पीपुल्स ऐक्शन पार्टी (पीएपी) ने आम चुनाव में संसद की 93 में से 83 सीटों पर जीत दर्ज कर स्पष्ट जनादेश हासिल किया है, जबकि विपक्षी दल ने रिकॉर्ड 10 सीटों के साथ बढ़त हासिल की है और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है. पीएपी 1965 से ही सत्ता में है. उसने चुनाव में 61.24 प्रतिशत मत हासिल किए, जबकि 2015 में हुए चुनाव में उसे 69.9 प्रतिशत मत मिले थे.

करीब 26 लाख सिंगापुरवासियों ने मतदान किया. इस बार विपक्षी वर्कर्स पार्टी के लिए भी परिणाम हैरान करने वाले रहे, जिसने 10 सीटें हासिल कर अपना अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है. शुक्रवार (Friday) के चुनाव को कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) से निपटने पर प्रधानमंत्री के लिए जनमत संग्रह के तौर पर देखा जा रहा था. सिंगापुर उन कुछ गिने चुने देशों में शामिल है, जहां महामारी (Epidemic) के दौरान चुनाव हुए हैं.

Check Also

नौसेना के अनुबंध पूरा नहीं करने पर जताया ऐतराज, जंगी जहाजों के बेड़े को खरीदने में असफल रहने का मामला

नयी दिल्ली. नौसेना द्वारा जंगी जहाजों के बेड़े को खरीदने का फैसला 2010 में होने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *