सिंगरौली की सबसे पुरानी NTPC इकाई ने अब तक का सर्वाधिक PLF दर्ज किया

नई दिल्ली (New Delhi) . एनटीपीसी लिमिटेड की पहली इकाई, जो 38 साल पहले उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सिंगरौली में चालू की गई थी, ने अप्रैल 2020 से दिसंबर 2020 के दौरान देश की सभी ताप विद्युत इकाइयों की तुलना में100.24 प्रतिशत का उच्चतम प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ) प्राप्त किया है, जो केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए)द्वारा प्रकाशित डेटा से स्पष्ट हुआ है.200 मेगावाट की इकाई 1982 में चालू की गई थी और उच्च पीएलएफ, भारत की सबसे बड़ी बिजली उत्पादक कंपनी में बेहतरीन परिचालन और रख-रखाव दक्षता का प्रतीक है.

  मोपेड एक्सएल100 का विनर एडीशन लॉन्च

इकाई नं. 1 द्वारा प्राप्त शानदार उपलब्धि के अलावा, एनटीपीसी की तीन और इकाइयां – सिंगरौली इकाई नं. 4 और छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में कोरबा इकाई नं. 1 वनं.2 शीर्ष 5 प्रदर्शन करने वाली इकाइयों में शामिल हैं. बिजली मंत्रालय के तहत सार्वजनिक उपक्रम एनटीपीसी लिमिटेड द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, एनटीपीसी समूह ने अप्रैल से दिसंबर 2020 तक 222.4 बिलियन यूनिट (बीयू) का उच्चतम सकल उत्पादन हासिल किया, जो पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में 3.8 प्रतिशत अधिक है.

  राजस्‍थान में 3 कारोबारी समूहों पर आयकर विभाग के छापे, 1400 करोड़ रुपए से ज्यादा की ब्लैक मनी का खुलासा

साथ ही साथ, एनटीपीसी के कोयला-बिजली संयंत्रों ने अप्रैल 2020 से दिसंबर 2020 तक 92.21 प्रतिशत की उच्च उपलब्धता बनाए रखी है, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि में यह 87.64 प्रतिशत थी. एनटीपीसी के छह प्रमुख संयंत्र- छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में एनटीपीसी कोरबा (2600 मेगावाट) और एनटीपीसी सिपत (2980 मेगावाट), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में एनटीपीसी रिहंद (3000 मेगावाट), मध्य प्रदेश में एनटीपीसी विंध्याचल (4760 मेगावाट), ओडिशा में एनटीपीसी तालचेर थर्मल (460 मेगावाट) और एनटीपीसी तालचेर कनिहा (3000 मेगावाट) भी देश के शीर्ष 10बेहतर प्रदर्शन करने वाले थर्मल प्लांटों में शामिल हुए हैं.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *