पांच महीने में मात्र 8 विवाह मुहूर्त, 24 अप्रैल के बाद है कई विवाह मुहूर्त


भोपाल (Bhopal) . चालू साल में विवाह बंधन में बंधने को आतुर युवाओं के ‎लिए विवाह मुहूर्त 25 नवंबर देवउठनी एकादशी से शुरू हो रहे. क्योंकि इस दिन भगवान विष्णु का शयनकाल समाप्त हो जाएगा. 25 नवंबर से 11 दिसंबर तक के बीच में कुल 8 विवाह मुहूर्त रहेंगे. फिर 15 दिसंबर से खरमास लग जाएगा. नवंबर में शुभ विवाह मुहूर्त- 25 और 30 को है, और दिसंबर में विवाह मुहूर्त- 1, 2, 7, 8, 9, 11 को है. यूं तो शादी ब्याह के मुहूर्त जनवरी से प्रारंभ हो जाते हैं, मगर साल 2021 में मांगलिक कार्यों को करने के लिए अप्रैल तक का इंतजार करना पड़ेगा.

  गैलेक्सी S21 अल्ट्रा 5G पर मुझे तस्वीरों और 8K वीडियो स्नैप के बीच चुनाव करने की ज़रूरत नहीं थीः नैट जियो फोटोग्राफर प्रसेनजित यादव

राजधानी के एक ज्योतिषाचार्य के अनुसार, जनवरी से मार्च तक गुरु व शुक्र ग्रह के अस्त रहने पर मुहूर्त नहीं रहेंगे. 15 जनवरी 2021 को गुरु ग्रह अस्त हो जाएंगे, और 12 फरवरी 2021 को उदय होंगे. हालांकि 16 फरवरी को बसंत पंचमी पर अबूझ मुहूर्त वाला दिन होने के कारण इस दिन विवाह किया जा सकता है. शुक्र ग्रह 14 फरवरी 2021 से अस्त हो जाएंगे, क्योंकि शुक्र ग्रह सभी सुख-सुविधाओं का मुख्य कारक है. इसके अतिरिक्त यह नैसर्गिक रूप से भी शुभ ग्रह है और यही कारण है कि सभी प्रकार के मांगलिक कार्यों में शुक्र ग्रह का अस्त होना त्याज्य माना गया है.

  सैमसंग एसी के 2021 रेंज के साथ लीजिए ठंडी और ताज़ी हवा का मज़ा

विवाह में गुरु बल भी अत्यधिक आवश्यक होता है. अत्यंत शुभ ग्रह होने के कारण जब बृहस्पति अस्त होता है अर्थात सूर्य के समीप आ जाता है तो यह स्थिति बृहस्पति के शुभ प्रभाव में कमी का कारण बन जाती है 22 अप्रैल 2021 से दिसंबर 2021 तक करीब 46 विवाह मुहूर्त रहेंगे. मालूम हो ‎कि कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी मनाई जाती है.

देवउठनी एकादशी इस बार 25 नवंबर को मनाई जाएगी. इस एकादशी को प्रबोधिनी एकादशी या देवउठनी एकादशी भी कहा जाता है. राजधानी के ज्योतिषाचार्य के अनुसार, एकादशी तिथि का प्रारंभ 25 नवंबर बुधवार (Wednesday) सुबह 2:42 बजे से होगा तथा 26 नवंबर सुबह 5:10 बजे तक रहेगा. आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को भगवान विष्णु चार माह के लिए सो जाते हैं और कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जागते हैं. चार माह की इस अवधि को चतुर्मास कहते हैं. देवउठनी एकादशी के दिन ही चतुर्मास का अंत हो जाता है और शुभ काम शुरू किए जाते है.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *