पृथ्वी की गति में अंतर से देश में 2021 में कोई ग्रहण नहीं होगा !

इस बार नया साल 2021 ग्रहण मुक्त रहेगा. हालांकि इस साल दो सूर्य ग्रहण और दो चंद्रग्रहण होंगे, लेकिन इनमें से किसी भी ग्रहण का प्रभाव भारत में नहीं पड़ेगा. भारत में ग्रहण नहीं दिखेगा और न ही सूतक का प्रभाव दिखेगा. ये ग्रहण केवल पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और अमेरिका में पूरी तरह से प्रभावी होगा. ये ग्रहण भले प्रभावहीन हों, पर उनका मौसम पर विभिन्न क्षेत्रों में असर पड़ता दिखाई देगा.

  गलत जानकारी देने पर बाइजू'ज के मालिक रवींद्रन के खिलाफ एफआईआर

इसे कोरोना से जोड़ कर भी देखा जा रहा है. कोरोना समेत अन्य संक्रमण से होने वाली बीमारियों के फैलने की भी संभावना कम ही रहेगी. 2021 में चार ग्रहण होंगे. चारों ही भारत में प्रभावहीन रहेंगे. ये स्थिति पृथ्वी की गति में अंतर आने से बनी है, जिससे यहां दिखाई नहीं देंगे. कुछ पंचांगों में उत्तरी व पूर्वी क्षेत्रों में ग्रहण के आंशिक रूप से उल्लेख है.

  राजनीति को कहा अलविदा कहने वाले बाबुल सुप्रियो ने जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद इरादा बदला

ज्योतिषियो‌ं के अनुसार नए साल में बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व रहेगा. 2021 को जोड़ने पर अंक पांच आता है, जो बुध ग्रह का अंक है. शुरुआत कर्क राशि और कन्या लग्न से हो रही है. चंद्रमा पुष्य नक्षत्र में तथा लग्न हस्त नक्षत्र में होने के कारण वैवाहिक जीवन, कॅरियर, लव लाइफ और वित्तीय मामलों के लिए अच्छा रहने की उम्मीद जताई जा रही है. वर्ष 2021 सभी जातकों के लिए बेहतर परिणाम वाला साबित रहेगा.

  देवयानी इंटरनेशनल ने एंकर निवेशकों से 825 करोड़ रुपये जुटाए

पहला ग्रहण चंद्र ग्रहण लगेगा, जो 26 मई को लगेगा. यह भारत में तो नहीं दिखाई देगा, लेकिन यह उपछाया ग्रहण की तरह ही माना जाएगा. इसके बाद 10 जून को सूर्य ग्रहण लगेगा, इसके बाद 19 नवंबर को चंद्रग्रहण लगेगा, जो भारत में केवल उपछाया ग्रहण के तौर पर देखा जाएगा.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *