म्यांमार में हड़ताल के खिलाफ जुंटा की धमकी के बावजूद अमेरिकी दूतावास के पास एकत्र हुए हजारों लोग

यांगून . म्यांमार में प्रदर्शनकारियों (Protesters) के हड़ताल के आह्वान के खिलाफ जुंटा की कार्रवाई की धमकी के बावजूद हजारों लोग यंगून में अमेरिकी दूतावास के पास एकत्रित हो गए हैं. म्यांमार में सेना ने एक फरवरी को तख्तापलट करते हुए आंग सान सू की समेत कई प्रमुख नेताओं को हिरासत में ले लिया था. तख्तापलट के खिलाफ कई शहरों में लोग विभिन्न प्रतिबंधों के बावजूद प्रदर्शन कर रहे हैं. कई सड़कों को अवरुद्ध करने के बावजूद हजारों प्रदर्शनकारी यंगून में अमेरिकी दूतावास के पास एकत्रित हो गए.

  क्या चीन ने महामारी कोरोना पर पा लिया है काबू -जून तक 40 फीसदी लोगों के टीकाकरण का है लक्ष्य

साथ ही सेना के 20 ट्रकअऔर दंगा रोकने वाली पुलिस (Police) भी वहां पहुंच गई है. इन प्रदर्शनों की अगुवाई करने वाले ‘सिविल डिसोबीडीअन्स मूवमेंट’ ने लोगों से हड़ताल करने का आह्वान किया है. सरकारी प्रसारक पर जुंटा ने रविवार (Sunday) देर रात हड़ताल के खिलाफ कार्रवाई करने की घोषणा की है. ‘स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन काउंसिल’ ने कहा पाया गया है कि प्रदर्शनकारियों (Protesters) ने 22 फरवरी को दंगा करने और अराजकता फैलाने के लिए भीड़ को भड़काया है. प्रदर्शनकारी अब लोगों को भड़का रहे हैं, खासकर युवकों को टकराव के इस रास्ते पर जान को खतरा हो सकता है. पूर्व में प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा का जिक्र करते हुए सेना ने प्रदर्शनकारियों (Protesters) में आपराधिक गिरोह के शामिल होने का आरोप लगाते हुए कहा कि इस वजह से ही ‘‘सुरक्षा बलों को जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी. प्रदर्शन में अभी तक तीन लोगों की मौत हुई है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *