कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमण की रफ्तार तेज अगले चार हफ्ते बेहद नाजुक: केंद्र

नई दिल्ली (New Delhi) . केंद्र सरकार (Central Government)का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर ज्यादा तेज है इसलिए देश के लिए अगले चार सप्ताह बेहद नाजुक हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय की साप्ताहिक प्रेस कांफ्रेंस में मंगलवार (Tuesday) को नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने यह बात कही.

उन्होंने कहा कि कोरोना की लहर की तीव्रता इस बार ज्यादा है. पिछली बार के मुकाबले यह तेजी से फैल रहा है. इसे नियंत्रित करने के लिए पूरे देश को मेहनत करनी होगी तथा इसमें जन भागीदारी बेहद महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि अगले चार सप्ताह देश के लिए बेहद नाजुक हैं. देश में एक दिन पहले ही कोरोना के दैनिक संक्रमण के मामले पिछला रिकॉर्ड पार कर चुके हैं. यह पूछने पर कि इस बार कोरोना की पीक कितनी बड़ी होगी,

  लर्निंग फ्रॉम होम: सैमसंग टैब्स ने प्री-प्राइमरी बच्चों के लिए पढ़ाई बनाई और भी मजेदार

उन्होंने कहा कि इसका आकलन करना संभव नहीं है. ऐसा कोई आकलन नहीं किया गया है. इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने एक प्रजेंटेशन देकर बताया भारत में प्रति 10 लाख आबादी पर देश में 9192 कोरोना संक्रमित हैं, जो दुनिया में न्यूनतम है. इसी प्रकार प्रति 10 लाख की आबादी पर भारत में 120 मौतें हैं, यह भी दुनिया में बहुत कम है.

  कोरोना अभियान में शामिल कर्मचारी नहीं होंगे रिटायर

उन्होंने कहा कि 11 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना की स्थिति चिंताजनक बनी हुई है. इनमें महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, पंजाब, कर्नाटक (Karnataka), गुजरात (Gujarat), मध्य प्रदेश, तमिलनाडु (Tamil Nadu), दिल्ली, हरियाणा (Haryana) , केरल (Kerala) तथा चंडीगढ़ (Chandigarh) शामिल हैं. महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) और पंजाब (Punjab) में राज्य की मदद के लिए केंद्रीय टीमें तैनात की गई हैं. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना के 58 फीसदी मामले और 34 फीसदी मौतें हैं जो बेहद चिंताजनक है. एक प्रश्न के उत्तर में आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि देश में एक फीसदी लोगों में कोरोना का दोबारा संक्रमण पाया गया है. जिन लोगों को एक बार ठीक होने के 102 दिन के बाद दोबारा संक्रमण हो रहा है, उन्हें पुन: संक्रमण का मामला माना जाता है.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *