त्रिवेंद्र सिंह रावत दिल्ली तलब पार्लियामेंट्री बोर्ड में होगा फैसला

देहरादून (Dehradun) . उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलें दो दिन बाद फिर तेज हो गई हैं. मुख्यमंत्री (Chief Minister) त्रिवेंद्र सिंह रावत दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात करेंगे. वहीं, आज शाम को पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक भी है. बैठक में इस बात पर फैसला होगा कि उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन किया जाए या फिर मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र सिंह रावत को आगामी चुनाव तक बरकरार रखा जाए.

बता दें कि अगले साल 2022 में उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) भी हैं. अगर पार्टी हाई कमान नेतृत्व परिवर्तन करने का मन बनाता है तो सूत्र बताते हैं कि सांसद (Member of parliament) अनिल बलूनी और कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज रेस में सबसे आगे हैं. त्रिवेंद्र के साथ कई विधायकों ने भी दिल्ली की दौड़ लगाई है.

  कोरोना संक्रमण को रोकने महापौर निधि से 50 लाख रुपए तक व्यय की दी अनुमति

बता दें कि महिला दिवस के अवसर पर सीएम त्रिवेंद्र का आज ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में कार्यक्रम भी था. उत्तराखंड में शनिवार (Saturday) से भाजपा में मचे राजनीतिक भूचाल के बाद नेतृत्व परिवर्तन की अटकलें काफी तेंज हो गई हैं. शनिवार (Saturday) को ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में  बजट सत्र के दौरान ही सीएम त्रिवेंद्र देहरादून (Dehradun) पहुंच गए थे. सीएम सहित भाजपा के कई वरिष्ठ नेता सहित विधायकों ने शनिवार (Saturday) शाम को कोर कमेटी की बैठक में हिस्सा लिया था जिसमें झारखंड के पूर्व सीएम रमन सिंह सहित भाजपा प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम भी थे.  बैठक के बाद, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों पर लगाम लगा दिया था लेकिन सीएम त्रिवेंद्र के दिल्ली रवाना होने के बाद अटकलों का बाजार दोबारा गर्म हो गय है. 

  अस्पतालों में बेड की उपलब्धता की जानकारी कोरोना एप की मदद से प्राप्त करें: सीएम केजरीवाल

पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि पिथौरागढ़ जिले की चार में से तीन विस सीटें भाजपा के पास हैं, लेकिन मंत्रिमंडल में किसी को स्थान नहीं मिला है. वरिष्ठता पर कुमाऊं मंडल में पूर्व मंत्री, पार्टी के पूर्व प्रांतीय अध्यक्ष व डीडीहाट विधायक विशन सिंह चुफाल, कपकोट(बागेश्वर) विधायक और पूर्व मंत्री बलवंत सिंह भौर्याल, खटीमा के युवा विधायक पुष्कर सिंह धामी प्रबल दावेदार बताए जा रहे हैं, लेकिन इनमें से किन्ही दो को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है वहीं, गढ़वाल मंडल से एक विधायक को मंत्री बनाया जा सकता है. इनमें बद्रीनाथ विधायक महेंद्र भट्ट, विकासनगर विधायक मुन्ना सिंह चौहान व हरिद्वार (Haridwar) ग्रामीण के स्वामी यतीश्वरानंद के नाम शामिल हैं. 

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *