Thursday , 21 October 2021

यूपी में पिछले पांच सालों में बेरोजगारी दर 17 से घटकर 5 प्रतिशत बची : योगी

लखनऊ (Lucknow) . उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने शुक्रवार (Friday) को दावा किया है कि वर्ष 2016 में प्रदेश में 17 प्रतिशत से अधिक बेरोजगारी दर थी, जो अब घटकर पांच प्रतिशत रह गई है. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने लोक भवन में विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के अन्तर्गत प्रशिक्षित लाभार्थियों को टूलकिट एवं प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंतर्गत ऋण वितरित करने के बाद आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले डेढ़ वर्षों से पूरी दुनिया वैश्विक महामारी (Epidemic) कोविड-19 (Covid-19) से जूझ रही है, ऐसी परिस्थिति में देश में लॉकडाउन (Lockdown) लगाना पड़ा था और लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान 40 लाख से अधिक प्रवासी कामगार तथा श्रमिक प्रदेश में वापस आ गए थे.

  मोदी सरकार करेगी चीनी मोबाइल कंपनियों के एप और कल-पुर्जों की जांच

उन्‍होंने कहा कि इस दौरान परम्परागत कारीगरों, हस्तशिल्पियों तथा उद्यमियों ने ऐसा तंत्र विकसित किया, जिससे उनके स्वावलम्बन के साथ ही प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत बनाने की संकल्पना को गति मिली है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि प्रदेश की आबादी 24 करोड़ है, बेरोजगारी दर प्रदेश में देश के अन्य राज्यों की तुलना में बहुत कम है और वर्ष 2016 में प्रदेश में 17 प्रतिशत से अधिक बेरोजगारी दर थी, वहीं आज यह घटकर मात्र चार से पांच प्रतिशत रह गयी है.

  पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर राहुल गांधी का मोदी सरकार पर निशाना

शुक्रवार (Friday) को जारी बयान के अनुसार प्रदेश में आयोजित इस कार्यक्रम के माध्यम से 21,000 लाभार्थियों को टूलकिट तथा 11,000 लाभार्थियों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंतर्गत ऋण वितरित किया गया. मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष दीपोत्सव के अवसर पर अयोध्या (Ayodhya) में साढ़े सात लाख दिये जलाए जाने का लक्ष्य है और इन दियों को अयोध्या (Ayodhya) में ही बनाया जाएगा.
उन्होंने कहा कि आगामी छह अक्टूबर को नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) व प्रधानमंत्री के रूप में जनसेवा के 20 वर्ष पूर्ण हो रहे हैं और उन्होंने (मोदी) अपने नेतृत्व क्षमता से देश को एक नई दिशा प्रदान की है. उनकी जनसेवाओं को उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) सरकार द्वारा आज 17 सितम्बर से सात अक्टूबर, 2021 तक विकास उत्सव के रूप में आयोजित किया जा रहा है. योगी ने कहा कि विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के अन्तर्गत 68,400 से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया गया है. कार्यक्रम को सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम राज्यमंत्री चौधरी उदयभान सिंह समेत कई प्रमुख लोगों ने संबोधित किया.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *