Thursday , 28 January 2021

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंजूरी दी


नई दिल्ली (New Delhi) . देश में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए आत्मनिर्भर भारत पैकेज 3.0 के तहत आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है.  इससे कर्मचारी और रोजगार देने वाले दोनों को ही प्रोत्साहन मिलेगा. इस स्कीम को 1 अक्टूबर 2020 को लागू माना जाएगा और यह योजना 30 जून 2021 तक रहेगी. इसके लिए सरकार 22,810 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च करेगी. श्रम राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने बुधवार (Wednesday) को कैबिनेट के इस फैसले की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि कोविड-19 (Covid-19) महामारी (Epidemic) के दौरान रोजगार सृजन को प्रोत्साहित करने के लिए एक नई योजना शुरू की गई है. योजना के तहत अगर ईपीएफओ-रजिस्टर्ड प्रतिष्ठान ऐसे नए कर्मचारियों को लेते हैं जो पहले पीएफ के लिए रजिस्टर्ड नहीं थे या जो नौकरी खो चुके हैं, तो यह योजना उनके कर्मचारियों को लाभ देगी.

  केन्द्र सरकार की नीतियों से लोकतंत्र खतरे में है : अशोक गहलोत

योजना की प्रमुख बातें

इस योजना के तहत लाभार्थी नए कर्मचारी होंगे15,000 रुपये से कम मासिक वेतन पर ईपीएफओ-पंजीकृत प्रतिष्ठान में रोजगार पाने वाला कोई भी नया कर्मचारी
15,000 रुपये से कम का मासिक वेतन पाने वाले ईपीएफ सदस्य जिन्होंने 01.03.2020 से 30.09.2020 तक कोविड महामारी (Epidemic) के दौरान रोजगार गंवाया और 01.10.2020 से या उसके बाद कार्यरत है, योजना के तहत नई नियुक्तियां करने वाले एंप्लॉयर्स को सब्सिडी दी जाएगी. सब्सिडी इंप्लॉइज और इंप्लॉयर्स द्वारा दो साल के लिए किए गए भविष्य निधि योगदान यानी पीएफ को कवर करने के लिए होगी.

  बैंक ऑफ बड़ौदा को तीसरी तिमाही में 1,159 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध लाभ

क्या होगा पैमाना

केंद्र सरकार (Central Government)निम्नलिखित पैमाने पर 01.10.2020 या उसके बाद लगे नए पात्र कर्मचारियों के संबंध में दो साल के लिए सब्सिडी प्रदान करेगी:
1000 कर्मचारियों को रोजगार देने वाले प्रतिष्ठान, कर्मचारी का योगदान (वेतन का 12%) और नियोक्ता का योगदान (वेतन का 12%) कुल वेतन का 24%
1000 से अधिक कर्मचारियों को नियुक्त करने वाले प्रतिष्ठान, केवल कर्मचारी के ईपीएफ का अंशदान (वेतन का 12%)
यह योजना 1 अक्टूबर, 2020 से प्रभावी होगी और 30 जून, 2021 तक लागू रहेगी. साथ ही कुछ अन्य पात्रता मानदंडों को भी इसमें पूरा करना होगा, और केंद्र सरकार (Central Government)नए योग्य कर्मचारियों के संबंध में दो साल के लिए सब्सिडी प्रदान करेगी.
इस योजना के तहत करीब 58.5 लाख कर्मचारियों को फायदा मिलेगा. मार्च 2020 से अगले साल तक जो लोग नौकरी पर लग रहे हैं, इनका EPF अंशदान सरकार की ओर से दिया जाएगा. जिस कंपनी में 1000 से कम कर्मचारी हैं उनका 24 फीसदी EPF अंशदान सरकार देगी.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *