किसानों की आय बढ़ने के लिए उन्नति ने Paytm Payment Bank के साथ साझेदारी


नई दिल्ली (New Delhi) . किसानों की आय बढ़ाने में मदद के उद्देश्य से नाबार्ड के नैबवेचर्स प्रोमोटेड एग्री स्टार्टअप उन्नति ने पेटीएम पेमेंट बैंक (Bank) के साथ साझेदारी की है. साझेदारी के तहत स्टार्टअप उन्नति ने अपने प्लेटफॉर्म से जुड़ा पहला डिजिटली इंटीग्रेटेड कार्ड लांच किया है. पेटीएम पेमेंट बैंक (Bank) के साथ साझेदारी करके तैयार किया गया यह कार्ड किसानों को बीज, उर्वरक आदि के खर्च में कमी करने की सुविधा देगा. साथ ही किसानों को कृषि उत्पादों की बिक्री के लिए बेहतर मूल्य दिलाने में सक्षम बनाएगा.

इस नए लांच किए गए कार्ड से किसानों को बीज उर्वरक के खर्च में कमी लाकर और अपने खेत की पैदावार को अच्छे दामों में बेचने की सुविधा पाकर अपनी शुद्ध आय को बढ़ाने में मदद मिलेगी. इसके अलावा, कार्ड किसानों को हर पहलू में रिअल टाइम अपडेट प्राप्त करने की सुविधा देगा, जिसमें सुविधाजनक और निर्बाध रूप से बेहतर ऋण दरों का लाभ उठाने के लिए पे-आउट भी शामिल है. कार्ड के लिए किसानों को अग्रिम के रूप में 250 रुपये का भुगतान करने की आवश्यकता होती है, जो आरबीआई (Reserve Bank of India) द्वारा अधिकृत एक बार का चार्ज है.

  कोरोना के बाद बीमा सबसे पसंदीदा वित्तीय उत्पाद बना: सर्वे

उन्नति के सह-संस्थापक, अशोक प्रसाद ने कहा कि बीते सालों में कृषि क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि देखने को मिली है, फिर भी किसानों को कई पहलुओं में दिन-प्रतिदिन चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. उन्नति अत्याधुनिक तकनीक का लाभ उठाकर देश के किसानों को सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और उन्हें उनकी ज़रूरतों को पूरा करने वाली श्रेणी में सर्वोत्तम सेवाएं और उत्पाद पेश कर रहा है.

  कोरोना से मुक्त हुआ अरुणाचल प्रदेश, एक भी एक्टिव केस नहीं, रिकवरी दर 99 फीसदी

यह घोषणा कर गर्व हो रहा है, कि उन्नति इस तरह का उत्पाद लांच करने वाला पहला एग्री-टेक स्टार्टअप है क्योंकि किसी भी अन्य ब्रांड ने अभी तक ऐसा कुछ भी लांच नहीं किया है, जो इतनी आसानी से किसी डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म में एकीकृत हो, जो लेनदेन को भी सक्षम बनाता है. हमारे नए लांच किए गए कार्डों का लक्ष्य किसानों को उच्च-गुणवत्ता वाले उत्पादों का लाभ उठाने, उनके बाज़ार की पहुंच में सुधार करने और उनकी समग्र आय को बढ़ाने में सक्षम करना है. फिलहाल 4 राज्यों में मौजूद, इस आधुनिक एग्री-टेक प्लेटफॉर्म की योजना देश भर के सभी प्रमुख राज्यों में अपना परिचालन बढ़ाने की है और यह साल खत्म होने तक 1 मिलियन किसानों तक अपनी सेवाएं पहुंचाने की है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *