Tuesday , 19 January 2021

282 की बजाय अब 161 सेंटर्स पर ही होगा वैक्सीनेशन, तैयारियां पूरी


जनवरी में 16, 18, 19, 22, 23, 25, 27, 29, 30 और 31 को लगेंगे टीके

जयपुर (jaipur) . भारत सरकार के निर्देशानुसार राजस्‍थान में 16 जनवरी से शुरू होने वाला कोरोना वैक्सीनेशन अब पूर्व में प्रस्तावित 282 सेशन साइट की बजाय 161 सेंटर्स पर ही किया जायेगा. कोविड वैक्सीनेशन सप्ताह में केवल 4 दिन ही आयोजित किया जायेगा. जनवरी में इसके लिए 16, 18, 19, 22, 23, 25, 27, 29, 30 और 31 को सत्र आयोजित किये जायंगे.

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सचिव सिद्धार्थ महाजन ने बताया कि मुख्यमंत्री (Chief Minister) के निर्देश पर वैक्सीनेशन की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. 16 जनवरी को टीकाकारण का कार्य प्रधानमंत्री द्वारा शुभारम्भ कार्यक्रम के समापन के बाद ही शुरू किया जाएगा. कोविशील्ड की एक वॉयल में 10 डोज है. कोवैक्सीन की एक वॉयल में 20 डोज है. उन्होंने शुरुआत में केवल मेडिकल कॉलेज अस्पताल, जिला अस्पताल, उपजिला अस्पताल और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को ही सत्र स्थल के रूप में चयनित करने के निर्देश दिए हैं.

  गहलोत-पायलट की तकरार छोड़िए, राजस्थान भाजपा में भी गुटबाजी कम नहीं है !

वहीं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को इन सबके बाद प्रस्तावित करने के भी निर्देश दिए हैं. सचिव ने सभी जिलों को 31 जनवरी तक की कार्ययोजना अभी से तैयार करने को कहा है. यदि किसी जिले में हेल्थ केयर वर्कर्स के टीकाकरण का कार्य 31 जनवरी से पहले पूर्ण हो रहा है वह तत्काल राज्य स्तर पर सूचित करें. चिकित्सा व स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि इनमें उन चिकित्सा संस्थानों को प्राथमिकता दी गई है, जहां पर एईएफआई मैनेजमेन्ट सेन्टर हैं. किसी भी सत्र स्थल के लिए लाभार्थियों की मैपिंग, कोविन सॉफटवेयर में जिनका रजिस्ट्रेशन पहले हुआ है, उसी क्रम में फर्स्ट इन फर्स्ट आउट के आधार पर ही की जायेगी.

  मासूम बच्ची के साथ रेप करने वाले दोषी को उम्रकैद की सजा, 20 हजार का जुर्माना

उन्होंने बताया कि प्रतिदिन सत्र समाप्ति के लिये निर्धारित समय शाम 5 बजे तक यदि बुलाये गये सभी लाभार्थियों को टीकाकरण नहीं हो पाता है तो उस सत्र स्थल पर 5 बजे तक आये सभी लाभार्थियों के टीकाकरण पूर्ण होने के बाद ही सत्र समाप्त किया जाये. उन्होंने बताया कि जिलों को आवंटित वैक्सीन को यथासंभव जिला वैक्सीन स्टोर पर ही भण्डारण किया जावे ताकि उनके संधारण व सुरक्षा में सुविधा रहे.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *