महीसागर के जंगल में फिर दिखा बाघ, सोशल मीडिया में वीडियो वायरल


अहमदाबाद (Ahmedabad). मध्य गुजरात के महीसागर जिले में फिर एक बाघ दिखने से वन्यजीव प्रेमियों में खुशी की लहर दौड़ गई है. महीसागर जिले के उबेर पहाड़ी क्षेत्र में स्थानीय लोगों ने बाघ देख उसका वीडियो बनाया और सोशल मीडिया (Media) में वायरल कर दिया. जिसके बाद वन विभाग टीम जंगल में सर्च कर रही है. फिलहाल वन विभाग ने महीसागर में बाघ होने की पुष्टि नहीं की है.

  चीनी सोशल मीडिया प्लेटफार्म वेबो को अलविदा कहा प्रधानमंत्री ने

गुजरात में 27 साल बाद महीसागर जिले के जंगलों में बाघ को देखा गया था. 6 फरवरी 2019 को रात 9 से 10 बजे के बीच महीसागर जिले के संतरामपुर के जंगल में वन विभाग की ओर से लगाए गए नाइट विजन कैमरे में बाघ की तस्वीर कैद हुई थी. लूणावाडा के गढ़ गांव के निकट एक प्राथमिक शिक्षक ने भी बाघ को देखा था और उसकी तस्वीर ली थी. जिसके बाद वन विभाग के 200 कर्मचारियों की टीम ने जंगल में सर्च ऑपरेशन किया. सर्च ऑपरेशन के दौरान वन विभाग की टीम बाघ का शव मिला. 1993 मोडासा में तीन लोगों पर बाघ ने हमला किया था.

  वोडाफोन- इडिया ने बनाया घाटे का रिकॉर्ड, वित्त वर्ष 2019-20 में 73,878 करोड़ रुपये का नुकसान

1997 में गुजरात में एक बाघ होने की पुष्टि हुई थी. वर्ष 2018 में दक्षिण गुजरात के तापी जिला के निझर से करीब 15 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र (Maharashtra) की सीमा स्थित नाम गांव के निकट बाघ देखा गया था. उसी साल महीसागर जिले में भी बाघ होने की पुष्टि हुई थी, लेकिन कुछ समय बाद ही उसकी मौत हो गई थी. फिलहाल महीसागर जिले में फिर एक बार बाघ दिखाई देने के स्थानीय लोगों के दावे के बाद वन विभाग ने जांच शुरू की है.

  बारिश से तरबतर मुंबई में कई जगह भरा पानी

Check Also

बीएसएनएल ने दिया चीनी कंपनी को बड़ा झटका

नई दिल्‍ली . सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने 4जी दूरसंचार नेटवर्क उन्नत बनाने …