केरल सरकार ने जो किया वह ‘‘गैरकानूनी’’ और ‘‘कानूनी रूप से सही नहीं’’ था : राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान


तिरुवनंतपुरम . केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने उन्हें सूचित किए बगैर वाम सरकार द्वारा संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) पर उच्चतम न्यायालय का रुख करने के मामले में सरकार की ओर से दिए गए स्पष्टीकरण को खारिज कर दिया और कहा कि यह ‘‘गैरकानूनी’’ है. राज्यपाल ने पत्रकारों से कहा, ‘‘कोई भी स्पष्टीकरण मुझे संतुष्ट नहीं कर सकता.’’ इससे पहले राज्य के मुख्य सचिव टॉम जोस ने राजभवन में राज्यपाल से मुलाकात की और उन्हें बताया कि किन आधारों पर राज्य सरकार को केन्द्र के खिलाफ उच्चतम न्यायालय जाना पड़ा.

  योगी सरकार का बजट जनता की अपेक्षाओं के साथ छलावा: मायावती

सूत्रों ने बताया कि राज्यपाल के साथ अपनी बैठक में मुख्य सचिव ने राज्यपाल को यह भी बताया कि सरकार ने जानबूझकर किसी भी नियम का उल्लंघन नहीं किया है.हालांकि इसके कुछ घंटे बाद अयोध्या जाते समय राज्यपाल ने हवाई अड्डे पर पत्रकारों से कहा कि उनका (सरकार) कोई भी स्पष्टीकरण उन्हें संतुष्ट नहीं कर सकता है क्योंकि उन्होंने जो किया वह ‘‘गैरकानूनी’’ और ‘‘कानूनी रूप से सही नहीं’’ था.

  अस्वस्थ अमर सिंह ने ट्वीट कर बिग बी से कहा- मौत से लड़ रहा हूं, टिप्पणियों के लिए क्षमा करें

उन्होंने कहा, ‘‘स्वीकृति के लिए मेरी राय की जरूरत होती है. वे मुझे बिना बताए उच्चतम न्यायालय चले गए हैं. यह एक गैरकानूनी कार्य है. कानूनी रूप से सही नहीं है.’’ उन्होंने कहा कि इसलिए यह अहम और व्यक्तिगत मतभिन्नता का टकराव नहीं है. राज्यपाल ने उन्हें सूचित किए बिना सीएए के खिलाफ उच्चतम न्यायालय जाने को लेकर राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी थी जिसके एक दिन बाद मुख्य सचिव टॉम जोस ने सोमवार को राज्यपाल से मुलाकात की.

  मनोहर पर्रिकर के नाम से रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान

Check Also

कुत्ते का अंतिम संस्कार करने न्यूजीलैंड से आया बिहार का युवक

पूर्णिया. भारतीय संस्कृति में अपने पूर्वजों को सम्मान देने के लिए लोग दुनिया के कई …