खुदरा के बाद थोक महंगाई में भी इजाफा

नई दिल्‍ली . महंगाई के मोर्चे पर सरकार को एक और झटका लगा है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक, जनवरी में थोक महंगाई दर दिसंबर के 2.59 फीसदी से बढ़कर 3.1 फीसदी पर पहुंच गई है. अगर एक साल पहले की बात करें तो जनवरी 2019 में थोक महंगाई 2.76 फीसदी पर रही थी.

food-prices

हालांकि, जनवरी में थोक खाद्य महंगाई दर कम रही लेकिन मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट्स की महंगाई आंकड़ों में तेजी आई है.यहां बता दें कि बीते साल के आखिरी तीन महीने-दिसंबर, नवंबर और अक्‍टूबर में थोक महंगाई बढ़ी है.

  कोविड-19 के बारे में भ्रामक सूचना के ‘वायरस’ तो तत्काल रोकना आवश्यक: नायडू

इससे पहले बुधवार को खुदरा महंगाई के आंकड़े जारी हुए थे. ये आंकड़े बताते हैं कि खुदरा महंगाई 6 साल के उच्‍चतम स्‍तर पर है. सब्जियों, अंडों, गोश्त, मछली जैसे खाद्य पदार्थो और ईंधन के दाम ऊंचे रहने के कारण खुदरा महंगाई दर जनवरी में बढ़कर 7.59 फीसदी हो गई, जोकि तकरीबन छह साल का ऊंचा स्तर है.

खुदरा महंगाई दर इससे पहले दिसंबर 2019 में खुदरा महंगाई दर 7.35 फीसदी दर्ज की गई थी, जबकि पिछले साल जनवरी 2019 में खुदरा महंगाई दर 1.97 फीसदी दर्ज की गई थी.

  कोरोना : उमर अब्दुल्ला ने उद्धव ठाकरे की तारीफ की



औद्योगिक उत्पादन गिरा

इससे पहले बुधवार को औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े जारी किए गए थे. देश के मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर में सुस्‍ती रहने के कारण दिसंबर 2019 दौरान औद्योगिक उत्पादन में 0.3 फीसदी की गिरावट आई. इससे पहले नवंबर 2019 में औद्योगिक उत्पादन में 1.82 फीसदी की तेजी दर्ज की गई थी जबकि एक साल पहले दिसंबर 2018 में देश के औद्योगिक उत्पादन में 2.5 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी. औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) में दिसंबर 2018 के दौरान 2.5 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी.

  कोरोना वायरस के दुष्प्रभाव से बैंकिंग और शेयर बाजार में हड़कंप

Check Also

पलायन करने वाले मजदूरों के स्वास्थ्य और प्रबंधन के हम एक्सपर्ट नहीं: सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली (New Delhi) . सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने मंगलवार (Tuesday) को कहा कि …