रेलकर्मी के संक्रमित होने पर मिलते हैं बस 3 हजार रुपए

जबलपुर (Jabalpur). किसी रेल कर्मचारी या उसके परिवार के सदस्य के कोरोन संक्रमित होने पर रेलवे (Railway)ने जो सहायता राशि देने की घोषणा की है, वह कई सवाल खड़े कर रही है. पश्चिम मध्‍य रेलवे (Railway)के मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय की ओर से एक आदेश जारी कर इसकी जानकारी दी गई है.

railway-cleaning

आदेश के अनुसार रेल कर्मचारी के कोरोना से संक्रमित होने पर 3 हजार रुपए और उसके परिवार के सदस्य के संक्रमित होने पर 5 हजार रुपए की सहायता राशि प्रदान की जाएगी. आदेश के अनुसार केंद्रीय कर्मचारी कल्‍याण निधि से यह राशि दी जाएगी. (आदेश की प्रति देखें समाचार के अंत में)

रेलवे (Railway)के इस आदेश को लेकर सवाल उठ रहे हैं कि 3 या 5 हजार रुपए की राशि देने का क्‍या औचित्‍य है जबकि कोरोना संक्रमण का इलाज बेहद महंगा साबित हो रहा है. हालांकि दूसरी ओर यह भी कहा जा रहा है कि रेलवे (Railway)के अपने अस्‍पताल हैं और वे वहां रेलकर्मियों का इलाज करवा रहे हैं.

  सागर जिले में कोरोना महामारी का प्रकोप खात्‍मे की ओर

रेलवे (Railway)कर्मचारियों का टीकाकरण आज से आरंभ

कोविड 19 से बचाव के लिए रेलवे (Railway)कर्मचारियों को आज से प्राइमरी स्कूल नकज मे सुबह 10 बजे से टीकाकरण शुरू हो रहा है. सप्ताह में चार दिन सोमवार (Monday) , बुधवार (Wednesday) , गुरुवार (Thursday) और शनिवार (Saturday) को टीके लगाए जाएंगे. इसके लिए एक दिन पहले ऑनलाइन 9 बजे से 11 बजे तक ऑनलाइन बुकिंग की जाएगी. डब्‍लूसीआरएमस के मंडल अध्यक्ष एसएन शुक्ल ने यह जानकारी दी.

रेलवे (Railway)पर कोरोना का प्रतिकूल असर

रेलवे (Railway)के एक अधिकारी के मुताबिक, अब तक कोरोना से 1952 कर्मचारी जान गंवा चुके हैं और हर दिन करीब 1000 कर्मचारी कोरोना संक्रमित हो रहे हैं. रेलवे (Railway)न सिर्फ भारत बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा नियोक्ता है, जिसमें 13 लाख कर्मचारी काम करते हैं. इनमें चतुर्थवर्गीय कर्मचारी से लेकर वरिष्ठतम पदाधिकारी तक शामिल हैं. अब तक करीब एक लाख रेल कर्मचारी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं.

  मई में हवाई यात्रियों की संख्या में 63 प्रतिशत ‎गिरावट

संकट के दौर में क्या है रेलवे (Railway)की तैयारी?

कोरोना काल में तमाम चुनौतियों से जूझ रहे रेलकर्मियों के लिए रेलवे (Railway)कई स्तर पर प्रयास कर रहा है. रेलवे (Railway)बोर्ड के अध्यक्ष सुनीत शर्मा ने कहा “रेलवे (Railway)किसी राज्य या क्षेत्र से अलग नहीं है और हम भी लगातार कोविड संक्रमण झेल रहे हैं. हम ट्रांसपोर्ट यानी परिवहन का काम करते हैं और लोगों को, सामानों को लाते और ले जाते हैं. ऐसे में कोरोना के रोजाना करीब 1000 मामले सामने आ रहे हैं. ”

उपायों को लेकर उन्होंने कहा, हमारे अपने अस्पताल हैं. हमने बिस्तरों की संख्या बढ़ाई है. रेल अस्पातलों में ऑक्सीजन प्लांट बनाए गए हैं. हम अपने कर्मियों का ध्यान रख रहे हैं. फिलहाल 4000 रेलवे (Railway)कर्मी या उनके परिवार के सदस्य रेलवे (Railway)के अस्पतालों में भर्ती हैं. हमारा यह प्रयास है कि सभी जल्दी ठीक हों.

  गौतम अडाणी को मिनटों में लगा 46,399 करोड़ रुपए का झटका

फ्रंटलाइन वर्कर्स की तरह मिले मुआवजा

रेलकर्मियों के एक संघ ने कुछ दिन पहले कोरोना के कारण जान गंवाने वाले रेलकर्मी के परिवार को 50 लाख रुपये मुआवजा दिए जाने की मांग की थी. इस संबंध में संघ ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर मांग की थी कि कोरोना (Corona virus) संकट के दौरान ड्यूटी करते हुए जान गंवाने वाले रेलकर्मियों के परिजनों को फ्रंटलाइन वर्कर्स की तरह ही मुआवजा दिया जाए. फिलहाल इन्हें 25 लाख रुपये देने का प्रावधान है, जबकि संघ की मांग है कि उन्हें 50 लाख रुपये मुआवजा दिया जाए.

rly-order


न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *