तार फेंसिंग के करंट की चपेट में आकर युवक की मौत

दतिया सिविल लाइन थाना क्षेत्र में ग्वालियर हाइवे रोड स्थित भारतीय मृदा एवं जल संरक्षण अनुसंधान केंद्र के पीछे मवेशियों को अंदर घुसने से रोकने के लिए तार फेंसिंग में डाले गए करंट से एक युवक की मौत हो गई. युवक रात में घर नहीं पहुंचा तो परिजन ने उसकी तलाश की. मंगलवार को दोपहर एक बजे जंगल के बीच तार फैंसिंग में उलझी हुई लाश मिली. तार में दौड़ रहे करंट से मौके पर हाल में ही पांच गायों के भी शव पड़े मिले. साथ ही 50 से अधिक गायों की हड्डियां पड़ी मिलीं. जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को निगरानी में लेकर पीएम कराया ओर मामले की जांच शुरू कर दी है.

  भारत में 1 अप्रैल से बिकेगा दुनिया का सबसे साफ पेट्रोल-डीजल

जानकारी के अनुसार ईदगाह निवासी दयानंद पुत्र मन्नूलाल कुशवाहा ग्वालियर हाइवे रोड स्थित भारतीय मृदा एवं कृषि जल संरक्षण अनुसंधान केंद्र पर चौकीदारी करता है. दोपहर के समय उसका छोटा भाई विनोद कुशवाहा (31) खाना देने जाता था. रोज की तरह विनोद सोमवार को दोपहर दो बजे करीब चौकीदार भाई दयानंद को खाना देने गया था और वहां से जंगल के शॉर्टकट रास्ते से वापस अपने घर जा रहा था तभी अनुसंधान के जंगल क्षेत्र में डले तार फैंसिंग में आ रहे करंट की चपेट में आ गया जिससे उसकी मौत हो गई.

  बाइक खंभे से टकराई युवक की मौत

विनोद के घर न पहुंचने पर परिवार के लोगों ने उसकी तलाश शुरू की और मंगलवार को दोपहर में जंगल के रास्ते अनुसंधान केंद्र पर गए तो वह जंगल के अंदर ही तार फैंसिंग में उलझा मिला. परिजन ने घटना की जानकारी पुलिस को दी. सिविल लाइन टीआई राजू रजक मौके पर पहुंचे और एफएसएल टीम को बुलाकर प्रारंभिक जांच के बाद शव को निगरानी में ले लिया. अनुसंधान केंद्र के पीछे अनुसंधान के ही किसी व्यक्ति ने मवेशियों को घुसने से रोकने के लिए तार फैंसिंग में करंट लगाया था.

  रोजाना दाल खाएं, कैंसर को दूर भगाएं : विश्व दलहन दिवस का दूसरा साल

Check Also

कुत्ते का अंतिम संस्कार करने न्यूजीलैंड से आया बिहार का युवक

पूर्णिया. भारतीय संस्कृति में अपने पूर्वजों को सम्मान देने के लिए लोग दुनिया के कई …