कोरोना वायरस के कारण राजमा के दाम चढ़े, कपास और कच्चे धागे की कीमतों में गिरावट


नई दिल्ली. चीन में कोरोना वायरस फैलने से बाजार में चौतरफा अनिश्चितता का माहौल है. इसकारण कपास और कच्चे धागे की कीमतों में 4 प्रतिशत की गिरावट आई है. जबकि राजमा के दाम में 8 प्रतिशत की तेजी आई है. इंडस्ट्री संस्थाओं और ट्रेडर्स का कहना है कि जब तक स्थिति साफ नहीं होती उससे पहले आगामी कुछ समय तक कीमतों में उतार-चढ़ाव जारी रह सकता है.

इंडस्ट्री के अनुमान के मुताबिक देश में घरेलू जरूरतों के लिए सालाना 50 प्रतिशत राजमा चीन से आयात होता है. इसके साथ ही भारत से कपास और सूत के सालाना निर्यात का 25 प्रतिशत चीन को भेजा जाता है. राजमा एक्सपोर्टर प्रदीप कुमार रनवाल ने बताया, चीन में डलियन पोर्ट से शिपमेंट ना होने का कारण ग्लोबल मार्केट में राजमा के दाम 8 प्रतिशत बढ़कर 1,100 डॉलर पर पहुंच चुके हैं. चीन में शटडाउन जारी है और भारत को आने वाले 300 कंटेनर बंदरगाह पर फंसे हुए हैं. घरेलू मार्केट में खेंप पहुंचते ही एक महीने के अंदर कीमतों में उछाल आएगा.’

  रोहित की बल्लेबाजी देखकर इंजमाम याद आ जाते थे : युवराज

पिछले दो महीने में जीरे की कीमत में करीब 20 प्रतिशत की गिरावट आई है. ऐसा जीरे की रिकॉर्ड पैदावार की संभावना और चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप फैलने के चलते हुआ है. इंपोर्ट के लिहाज से जीरे की गिनती अहम मसालों में होती है. नैशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज पर मार्च महीने के कॉन्ट्रैक्ट डिलिवरी के लिए जीरे की कीमत 135 रुपये प्रति किलो के आस-पास है, जो पिछले दो महीने के मुकाबले 20 प्रतिशत कम है. इस साल जीरे की पैदावार अधिक रहने का अनुमान जताया गया है.इसकारण जीरा एक्सपोर्टर को 140 रुपये के आस-पास पर इसकी कीमतें स्थिर होने का अनुमान है.

  नोएडा में विदेश से आए 1851 लोगों में 167 अब भी लापता, तलाश जारी

निर्यातकों ने बताया कि एक्सपोर्ट क्वॉलिटी (30 कार्डेड यार्न) कपास सूत के भाव पिछले 10 दिन में 3-4 प्रतिशत घटकर 185-200 रुपये प्रति किलो पर आ गए हैं. इसी तरह कपास की कीमतें भी 4 प्रतिशत घटकर 39,500 प्रति कैंडी(356 किलो) हो गई हैं. देश से कुल 410 करोड़ किलो कॉटन यार्न का उत्पादन होता है. इसमें से 110-120 करोड़ किलो चीन को एक्सपोर्ट होता है. टीटी लिमिटेड में एमडी संजय जैन ने कहा, ‘चीन में शटडाउन होने से सेंटिमेंट में कुछ सुधार हुआ है. वास्तव में असर कितना हुआ है इसका अनुमान इस हफ्ते या अगले हफ्ते तक लग जाएगा.’ सभी बायर्स खरीदारी टाल रहे हैं क्योंकि उन्हें कीमतों में गिरावट आने का अनुमान है.

  कोरोना के कारण अवसाद का शिकार न बनें : अख्तर

Check Also

पलायन करने वाले मजदूरों के स्वास्थ्य और प्रबंधन के हम एक्सपर्ट नहीं: सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली (New Delhi) . सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने मंगलवार (Tuesday) को कहा कि …