जिला पुलिस वापस लेकर लौटी शहर की नाबालिग किशोरी

जबलपुर, 14 जनवरी . माढ़ोताल थाना क्षेत्र से 7 माह पहले गायब हुई किशोरी के माथे पर जब पुलिस (Police) ने सिंदूर देखा तो उनके होश उड़ गए. किशोरी को राजस्थान (Rajasthan)में खासी मशक्कत से ढूंढक़र आखिरकार जिला पुलिस (Police) ने उसकी माँ के सुपुर्द कर दिया. प्राप्त जानकारी के अनुसार एक 55 साल की महिला ने बीते माह माढ़ोताल थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि उसके दामाद ने बेटी का अपहरण कर बेच दिया. महिला की शिकायत पर माढ़ोताल थाना पुलिस (Police) ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच पड़ताल शुरु की. विवेचना के दौरान पता चला कि किशोरी को राजस्थान (Rajasthan)में बेचा गया है. जबलपुर (Jabalpur)पुलिस (Police) के वरिष्ठ अधिकारियों के दिशा-.निर्देश पर एक टीम गठित कर राजस्थान (Rajasthan)पहुंचाया गया. जहां पहुंचने के बाद पुलिस (Police) कर्मियों के उस वक्त होश उड़ गए, जब 14 साल की किशोरी की मांग पर सिंदूर देखा. पुलिस (Police) कर्मियों को माथा ठनक गया और उन्होंने आरोपियों की पतासाजी कर बालिका से शादी रचाने वाले के साथ उसे बेचने वाले दामाद को गिरफ्तार किया. हालांकि बालिका की बहन अभी भी पुलिस (Police) पकड़ से दूर है.

  कमरे मे रखी टीवी को तेज आवाज मे चलाकर युवक ने लगा ली फॉसी, कारण अज्ञात

पुलिस (Police) की फटकार पड़ते ही जुर्म कबूला………..

माढ़ोताल टीआई रीना पांडे शर्मा ने बताया कि किशोरी का जीजा आरोपी दस्सू नुनिया फरार था. जिसकी तलाश की जा रही थी, दस्सू नुनिया के मिलने पर पूछताछ की गई जिसने बताया कि 8 मार्च 2020 को वह अपनी साली को बाजार में कपड़े खरीदने के बहाने लेकर गया था. जहॉ से मीना नुनिया मिली जहॉ से दोनों मिलकर नाबालिक बच्ची को कपड़ा खरीदने को कहकर सीधे ममौधन थान बसेड़ी जिला धौलपुर (Dholpur) राजस्थान (Rajasthan)ले कर गये. ममौधन में आरोपी विनोद परमार को 1 लाख रुपए में बेच दिया. जबलपुर (Jabalpur)पुलिस (Police) टीम द्वारा नाबालिग बच्ची से शादी करने के आरोपी विनोद परमार पिता स्व. दिनेश परमार निवासी ममौधन बसेड़ी जिला धौलपुर (Dholpur) राजस्थान (Rajasthan)को अभिरक्षा में लेते हुये नाबालिक बच्ची को दस्तयाब किया गया. फरार आरोपी मीना नुनिया की तलाश पतासाजी जारी है.

  कोरोना से जंग जीतने की शुरुआत : प्रहृलाद पटेल

अब भी फैला है मानव तस्करों का गिरोह……….

शहर से मानव तस्करी कर राजस्थान (Rajasthan)ले जाकर बेचने वालों का गिरोह शहर में अब भी सक्रिय है. इसका जाल मुख्य रूप से गोहलपुर, हनुमानताल सहित अन्य सीमावर्ती थाना क्षेत्रों में भी फैला हुआ है. उक्त मामले की जानकारी मिलने पर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा घटना को गम्भीरता से लेते हुये अपहृत बालिका की शीघ्र दस्तयाबी एवं आरोपी की गिरफ्तारी हेतु आदेशित किया गया था. आदेश के परिपालन में एएसपी शहर (दक्षिण/क्राईम) गोपाल खांडेल एवं सीएसपी गढ़ा रोहित काशवानी के निर्देशन में टीआई रीना पांडे शर्मा के नेतृत्व में टीम गठित कर लगायी गयी. किशोरी की पतासाजी कर दस्तयाबी एवं आरोपियों की गिरफ्तारी में एसआई एम एल चौधरी, सरिता पटैल, आरक्षक दिनेश, शशिप्रकाश, प्रेमनारायण, महिला आरक्षक प्रज्ञा, कंचन की सराहनीय भूमिका रही.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *