रिजर्व बैंक के निर्णय के बाद बैंक 8.4 लाख करोड़ रुपये तक के ऋण का पुनर्गठन करने को तैयार


रिपोर्ट: 2.1 लाख करोड़ रुपये के ऐसे कर्ज का पुनर्गठन किया जाएगा जो कॉरपोरेट क्षेत्र के नहीं हैं

मुंबई (Mumbai). रिजर्व बैंक (Bank) से मंजूरी मिल जाने के बाद बैंक (Bank) 8.4 लाख करोड़ रुपये के संकटग्रस्त ऋणों का पुनर्गठन करने की तैयारी में हैं. यह बैंकों के कुल कर्ज का 7.7 प्रतिशत है. एक घरेलू रेटिंग एजेंसी ने बुधवार (Wednesday) को एक रपट में यह बात कही. एजेंसी इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने कहा कि 8.4 करोड़ रुपये के इन कर्जों में 60 प्रतिशत से अधिक को यदि पुनर्गठित नहीं किया गया, तो उनके गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) की श्रेणी में गिरने की आशंका है. पुनर्गठन से बैंकों की आय भी बेहतर होगी, क्योंकि उन्हें अपेक्षाकृत कम प्रावधान करना होगा. इस महीने की शुरुआत में, आरबीआई (Reserve Bank of India) ने एक पुनर्गठन पैकेज की घोषणा की थी.

  सीएम ने नवरात्र की शुभकामनाएं दी

एजेंसी ने कहा कि वैश्विक वित्तीय संकट के समय करीब 90 प्रतिशत पुनर्गठित कर्ज कॉरपोरेट क्षेत्र के थे. तब की तुलना में इस बार कॉरपोरेट से इतर के क्षेत्रों की हिस्सेदारी अधिक होगी, जिनमें छोटे व्यवसाय, कृषि व खुदरा कर्ज शामिल होंगे. अनुमान है कि 2.1 लाख करोड़ रुपये के ऐसे कर्ज का पुनर्गठन किया जाना है, जो कॉरपोरेट क्षेत्र के नहीं हैं. एजेंसी ने कहा कि गैर-कॉरपोरेट क्षेत्र महामारी (Epidemic) की शुरुआत से पहले ही संकट के संकेत देने लगा था. इंडिया रेटिंग्स ने कहा कि कॉरपोरेट क्षेत्र के चार लाख करोड़ रुपये के कर्ज महामारी (Epidemic) के पहले से ही संकट में फंसे थे.

  चालू वित्त वर्ष में रत्नों व आभूषणों के निर्यात में गिरावट आ सकती : GJEPC

महामारी (Epidemic) के कारण इसमें 2.5 लाख करोड़ रुपये का इजाफा हो गया. गैर-कॉरपोरेट क्षेत्र में यह इजाफा और अधिक हुआ. पहले इस क्षेत्र के संकट में फंसे कर्ज महज 70 हजार करोड़ रुपये थे, जिनके 2.1 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाने की आशंका है. एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, कॉरपोरेट क्षेत्र में 3.3 लाख करोड़ रुपये से 6.3 लाख करोड़ रुपये तक के कर्ज का पुनर्गठन किया जा सकता है. यह इस बात पर निर्भर करेगा कि बैंक (Bank) क्या रणनीति अपनाते हैं.

  गांधी प्रतिमा के नीचे मौन व्रत करेंगे आज शिवराज

Check Also

आयोग ने कमल नाथ की टिप्पणी पर रिपोर्ट मांगी

भोपाल . चुनाव आयोग ने पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ की इमरती देवी पर गई टिप्पणी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *