Thursday , 28 January 2021

शिक्षक ट्रेनिंग परीक्षा (१९पीआर०७जीडब्ल्यू) मार्कशीट नहीं मिली अप्रशिक्षित माने जा रहे शिक्षक

जबलपुर, 19 दिसंबर . मध्य प्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति के जिलाध्यक्ष रॉबर्ट मार्टिन ने बताया कि लगभग दो साल पहले राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान के माध्यम से प्रदेश के हजारों शासकीय और अशासकीय शिक्षकों की टीचर ट्रेनिंग के नाम पर परीक्षा ली गई थी जिसमें प्रदेश के वे सभी शासकीय और अशासकीय विद्यालयों में अध्यापक करा रहे शिक्षकों को परीक्षा में बैठना अनिवार्य था जो अप्रशिक्षित थे. शिक्षकों को ये चेतावनी दी गई थी कि जो शिक्षक अप्रशिक्षित है उनकी वार्षिक वेतन वृद्धि रोक दी जायेगी एवं उन्हें भविष्य में अप्रशिक्षित होने के कारण पदोन्नति भी नहीं मिल पायेगी आवश्यकता पड़नें पर उन्हें नौकरी से भी निकाला जा सकता है.

  फरवरी में 10 हजार निकाय उम्मीदवारों का चयन करेगी कांग्रेस

इसी आनन फानन में शासकीय एवं अशासकीय विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों ने प्रशिक्षित शिक्षक होने का प्रमाण पत्र पाने के एवज में यह ट्रेनिंग जिला प्रशिक्षण संस्थान जबलपुर (Jabalpur)(डाईट) की ओर से जारी इस परीक्षा में बैठे परंतु परीक्षा समाप्त होने के लगभग दो साल बीत जाने के बावजूद आज दिनांक तक शिक्षकों को परीक्षा उत्र्तीण करने की मार्कशीट प्राप्त नहीं हुई. जिससे इन शासकीय एवं अशासकीय शिक्षकों में रोष व्याप्त है और वे अपने को ठगा सा महसूस कर रहे हैं. यह परीक्षा डीएलएड डिग्री के नाम से ली गई थी इस परीक्षा में ज्यादातर शासकीय और अशासकीय विद्यालयों में प्रायमरी में पढ़ाने वाले शिक्षकों ने हिस्सा लिया था. जिसकी फीस हर शिक्षक को 4 हजार 600 रू प्रारंभ में भरनी थी बाद में यह फीस परीक्षा के दौरान 250रू प्रति शिक्षक के मान से और ली गई थी. परंतु विडम्बना यह है कि परीक्षा समाप्त होने के दो वर्ष बाद भी शिक्षकों को न तो उत्र्तीण और अनुत्र्तीण होने की जानकारी दी गई न ही उन्हें परीक्षा से संबंधित कोई मार्कशीट दी गई.

  1008 मंत्रों से 24 तीर्थंकर भगवान की प्रतिमाओं का कलशाभिषेक

यही वजह है कि आज भी शिक्षकों की सेवा पुस्तिका-सर्विस बुक में इसकी एन्ट्री नहीं हो पाई और शिक्षक आज भी अप्रशिक्षित माने जा रहे हैं. यदि अप्रशिक्षित के नाम पर विभाग द्वारा कोई कार्यवाही की जाती है तो शिक्षकों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा. वहीं जिला प्रशिक्षण संस्थान जबलपुर (Jabalpur)के आलाधिकारी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे. जिससे शिक्षक हैरान परेशान और मानसिक तौर पर प्रताड़ित है कि आखिर मार्कशीट कब मिलेगी. संघ के योगेन्द्र दुबे, रॉबर्ट मार्टिन, शकील अंसारी, एनोज विक्टर, जियाउर्रहीम, गुडविल चाल्र्स, मीनूकांत शर्मा, विनोद सिंह, शहीर मुमताज, दिनेश गौंड़, राजेश सहारिया, आशुतोष तिवारी, आशाराम झारिया, दुर्गेश पांडेय, अजय मिश्रा, गोपीशाह, प्रकाश मिश्रा, सुरेन्द्र जैन, गिरीशकांत मिश्रा, चैतन्य कुशरे, हेमंत ठाकरे, शरीफ अंसारी, वसुमुद्दीन, विनय रामजे, स्टेनली नॉबर्ट, संतोष श्रीवास्तव, आशीष कोरी आदि ने जिला प्रशिक्षण संस्थान जबलपुर (Jabalpur)से मांग की है कि शिक्षकों की मार्कशीट अतिशीघ्र उन्हें दी जाये.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *